Interlinking of Rivers

India faces scarcity of water in different regions due to erratic rainfall and variations in monsoon. Thus the river interlinking project aims to solve the problems associated with water scarcity. River interlinking project aims to link India’s rivers by a network of canals and reservoirs. This will allow water from the high water availability area to be shared with water-scarce areas.

History of river interlinking can be traced back to the 19th century when Sir Arthur Cotton envisaged southern India. But this plan came into effect in later on in whole India. The main idea behind this project is perennial properties of Gangetic rivers and irregularity inflows of southern rivers.

Interlinking of river programme is of National importance programme. It is managed by National Water Development Agency(NWDA).

It includes three components:-

  • A Northern Himalayan component
  • A southern peninsular component
  • An intra-state river component

Project under this programme includes:-

  • ken-Betwa link project
  • Damanganga – Pinjal link project
  • Par – Tapi –Narmada link project
  • Mahanadi – Godavari link project
  • Godavari- Cauvery( Grand Anicut) project, etc.

Benefits of Interlinking of Rivers

  • India receives most of its rainfall in monsoon season in northern and eastern parts during monsoon, and western and southern part remains dry. It will be these places which face scarcity of water. Interlinking of Rivers will help these areas to have water throughout the year.
  • In the field of Agriculture, it’ll have huge benefits like:-
    • For farmers:- their dependence on monsoon rainfall for sowing and harvesting will reduce. It’ll also bring a thousand hectares of cultivable lands under irrigation.
    • Increase in production will increase farmer’s income and increase the consumption expenditure in the economy.
    • It’ll help in the mechanisation of agriculture.
    • Increase in production of crops will benefit the state revenue.
  • Beneficial in solving the problem of floods in eastern India. Also, Ganga and Brahmaputra river basins face floods almost every year. Therefore this problem can be very well sorted out with Interlinking of Rivers.
  • It’ll help forecast crop output and help set the MSP for Rabi and Kharif crops for government schemes.
  • Renewable energy:- India needs a lot of clean energy to meet the growing population’s requirement. River interlinking can provide a reliable source for clean energy.
  • It’ll have socio-economic effects in the life of people. This will provide large scale employment, therefore increasing the income of people. Also, it’ll help in poverty alleviation and economic regeneration.
  • It’ll also help in improving the water transportation system. This will make transportation process quite cheaper.
  • It also paves the way for tourism as such kind of sights are of great attraction to the tourists.
  • Fisherman community can also be benefitted from river interlinking. it can boost the development of pisciculture. 
  • In water-scarce areas, the burden of bringing water from far away areas are on women. Therefore river interlinking can provide easy and regular availability of water in these areas. Therefore, they are reducing the burden on women — E.G. Indira Gandhi link canal in Punjab –Haryana and Rajasthan.

Issues associated with interlinking of rivers in India:

  • In order to interlink the river, the natural path of the river will be modified. This, in turn, can lead to problems like silt deposition and irregular delta formation.
  • Also, less water availability in oceans due to impaired flow of rivers can hamper the evaporation cycle and thus damage monsoon cycles.
  • The Ken- Betwa link project is the river interlinking project that aims to transfer surplus water from ken river (MP) to Betwa(Uttar Pradesh) to cure the water scarcity in the Bundelkhand region. But this project has been criticised for environmental concerns like the construction of Daudhan dam on this link, leading to the submergence of the Panna Tiger Reserve of MP.
  • Environmental concerns include flooding of areas with rich, diverse flora and fauna. They are, therefore creating menace.
  • It’ll also lead to disputes among states regarding river interlinking projects, therefore harming India’s integrity. E.g. Polavaram project on river Godavari and Krishna river basins.
  • River interlinking requires a lot of money, creating a fiscal deficit for both central and state governments.
  • Rivers may change their course after years. Therefore the whole process becomes redundant after the change in the path of the river.
  • The interlinking may cause the transfer of pollutants from severely polluted rivers to less polluted rivers. Therefore widening the problems.
  • The building of dams and reservoirs can cause harms to aquatic life in the river, and it’s tributaries due to variance in salinity and temperature at different places.
  • River interlinking projects lead to drowning of large land areas underwater, therefore, creating problems elated with the displacement of people. It’ll pose livelihood related problems for displaced people also. In tribal areas, these projects can further lead to a rise in Naxalite ideology.
  • Relations with countries like Bangladesh, Myanmar, Nepal, Bhutan and Pakistan may also become problematic. Already transboundary river water sharing is a cause of dispute with these nations.

Some international river interlinking projects

  • Rhine-Main – Danube canal: it connects the Main river to Danube river. It provides a rich source of irrigation, power generation and navigation facility in Netherland and nearby areas.
  • South – north water transfer project of China. It aims to cure the problem of floods in the south and drought in the north of China by linking the Yangtze river basin in the south to Yellow, Hai, and Huai rivers in the north.
  • Mahaveli – Ganga project of Srilanka include several inter-basin transfer links.
  • In Canada projects such Ogoki, long Lake and NAWAPA etc.
  • California state water project of the United States is also a good example.

Way forward:

  • Tackling the water woes in India, there is need for much research on the Interlinking of Rivers projects and environmental cost associated with it. 
  • Successful international practices such as by China need to be followed in India’s implementation of these projects.
  • Impact on the environment and life of people should be taken into consideration before the initiation of the project. 
  • There is also a need for a mandatory policy for interlinking of rivers in India, including necessary guidelines for such projects.
Interlinking of Rivers in hindi के लिए इमेज नतीजे
Interlinking of Rivers projects

नदी जोड़ो परियोजना

भारत में अनियमित वर्षा और मानसून में भिन्नता के कारण विभिन्न क्षेत्रों में पानी की कमी का सामना करना पड़ता है। इस प्रकार नदी जोड़ो परियोजना का उद्देश्य पानी की कमी से जुड़ी समस्याओं का समाधान करना है। नदी जोड़ो परियोजना का उद्देश्य नहरों और जलाशयों के तंत्र द्वारा भारत की नदियों को जोड़ना और अधिक जल उपलब्धता वाले क्षेत्रों से पानी को पानी की कमी से झूझ रहे क्षेत्रों के साथ साझा करना है।

नदी को जोड़ने के इतिहास का पता 19वीं सदी में भी लगाया जा सकता है जब सर आर्थर कॉटन ने दक्षिण भारत के लिए इस विचार की परिकल्पना की थी। लेकिन यह योजना बाद में पूरे भारत में लागू की गई। इस परियोजना के पीछे का मुख्य विचार गंगा की नदियों के बारहमासी गुण और दक्षिणी नदियों का अनियमितता अन्‍तर्वाह था।

नदियों को आपस में जोड़ना कार्यक्रम राष्ट्रीय महत्व का कार्यक्रम है। इसका प्रबंधन राष्ट्रीय जल विकास एजेंसी (NWDA) द्वारा किया जाता है।

इसमें तीन घटक शामिल हैं:-

  • उत्तरी हिमालयी घटक
  • दक्षिणी प्रायद्वीपीय घटक
  • अंतरराज्यीय नदी घटक

इस कार्यक्रम के तहत निम्न परियोजनाएं शामिल हैं:-

  • केन-बेतवा लिंक परियोजना
  • दमनगंगा – पिंजल लिंक परियोजना
  • पार – तापी -नर्मदा लिंक परियोजना
  • महानदी – गोदावरी लिंक परियोजना
  • गोदावरी- कावेरी (ग्रैंड एनीकट) परियोजना आदि।

नदियों को आपस में जोड़ने के लाभ:

  • भारत में मानसून के दौरान उत्तरी और पूर्वी हिस्सों में मानसून के मौसम में अधिकांश वर्षा होती है तथा पश्चिमी और दक्षिणी हिस्सा सूखा रहता है। इन स्थानों पर पानी की कमी का सामना करना पड़ता है। नदियों को आपस में जोड़ने से इन क्षेत्रों में साल भर पानी रहेगा।
  • कृषि के क्षेत्र में भी इसके बहुत लाभ होंगे जैसे:-
    • किसानों के लिए:- बुवाई और कटाई के लिए मानसून की बारिश पर उनकी निर्भरता कम हो जाएगी। इससे सिंचाई के लिए हजार हेक्टेयर खेती योग्य भूमि भी बढेगी।
    • उत्पादन में वृद्धि से किसान की आय में वृद्धि होगी और अर्थव्यवस्था में भी खपत व्यय में वृद्धि होगी।
    • इससे कृषि के मशीनीकरण में सहायता होगी।
    • फसलों के उत्पादन में वृद्धि से राज्य को भी राजस्व का लाभ होगा।
  • पूर्वी भारत में बाढ़ की समस्या के समाधान में फायदेमंद। गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी घाटो को लगभग हर साल बाढ़ का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को भी नदियों को आपस में जोड़ने से बहुत अच्छी तरह से हल किया जा सकता है।
  • यह फसल उत्पादन के पूर्वानुमान में मदद करेगा और सरकारी योजनाओं के लिए रबी और खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) स्थापित करने में मदद करेगा।
  • अक्षय ऊर्जा: भारत को बढ़ती जनसंख्या की आवश्यकता को पूरा करने के लिए स्वच्छ ऊर्जा की बहुत आवश्यकता है। नदियों को जोड़ना स्वच्छ ऊर्जा के लिए एक विश्वसनीय स्रोत प्रदान कर सकता है।
  • लोगों के जीवन में इसका सामाजिक-आर्थिक प्रभाव पड़ेगा। इससे बड़े पैमाने पर रोजगार उत्‍पन्‍न होगा, जिससे लोगों की आय बढ़ेगी। इसके अलावा, इससे गरीबी उन्मूलन और आर्थिक उत्थान में सहायता मिलेगी।
  • यह जल परिवहन प्रणाली के सुधार में भी मदद करेगा। इससे परिवहन प्रक्रिया काफी सस्ती हो जाएगी।
  • यह पर्यटन का मार्ग भी प्रशस्त करता है क्योंकि इस प्रकार के दर्शनीय स्थल पर्यटकों के लिए काफी आकर्षण का केंद्र हैं।
  • मछुआरा समुदाय भी नदियों को आपस में जोड़ने से लाभान्वित होगा। यह मत्स्यपालन के विकास को बढ़ावा दे सकता है।
  • पानी की कमी वाले इलाकों में दूर दराज के क्षेत्रों से पानी लाने का बोझ महिलाओं पर  है। इसलिए नदियों को जोड़ने से इन क्षेत्रों में पानी की आसान और नियमित उपलब्धता हो सकेगी। जिससे महिलाओं का बोझ कम होगा, जैसे: पंजाब-हरियाणा और राजस्थान में इंदिरा गांधी लिंक कैनल परियोजना।

भारत में नदियों को जोड़ने से जुड़े मुद्दे:

  • नदी को आपस में जोड़ने के लिए नदी के प्राकृतिक रास्ते में बदलाव किया जाएगा। परिणामस्वरूप, गाद जमाव और अनियमित डेल्टा गठन जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • इसके अलावा नदियों के कम बहाव के कारण महासागरों में पानी की कम उपलब्धता वाष्पीकरण चक्र में बाधा डाल सकती है और इस प्रकार मानसून चक्र को क्षति पहुंच सकती है।
  • केन-बेतवा लिंक परियोजना एक नदी-जोड़ो परियोजना है जिसका उद्देश्य बुंदेलखंड क्षेत्र में पानी की कमी को पूरा करने के लिए केन नदी (मध्यप्रदेश) से बेतवा (उत्तर प्रदेश) में अधिशेष पानी स्थानांतरित करना है। लेकिन इस परियोजना की पर्यावरण संबंधी चिंताओं के लिए आलोचना की गई है, इस लिंक पर दौधन बांध के निर्माण से मध्यप्रदेश का पन्ना टाइगर रिजर्व डूब जाएगा।
  • पर्यावरण संबंधी चिंताओं में समृद्ध, विविध वनस्पतियों और जीवों वाले क्षेत्रों में बाढ़ का आना शामिल है। यह भी एक बड़ा खतरा है।
  • नदियों को जोड़ने वाली परियोजनाओं से राज्यों के बीच विवाद भी पैदा होगा, जिससे भारत की अखंडता को नुकसान पहुंच सकता है। जैसे गोदावरी नदी और कृष्णा नदी बेसिन पर पोलावरम परियोजना।
  • नदियों को आपस में जोड़ने के लिए बहुत अधिक धन की आवश्यकता होती है, इसलिए केंद्र और राज्य दोनों सरकारों के लिए राजकोषीय घाटा बढेगा।
  • कुछ वर्षों के बाद नदियां अपना रास्ता बदल सकती हैं। अगर ऐसा हुआ तो नदी के मार्ग परिवर्तन के बाद पूरी प्रक्रिया निरर्थक हो जाएगी।
  • नदियों के आपस में जोड़ने से गंभीर रूप से प्रदूषित नदियों से प्रदूषक कम प्रदूषित नदियों में स्थानांतरित हो जाएगा। जिससे एक ओर समस्या उत्पन्न हो जाएगी।
  • बांधों और जलाशयों के निर्माण से नदी और सहायक नदियों में जलीय जीवन को नुकसान पहुंचेगाl लवणता और तापमान में विभिन्न स्थानों पर भिन्नता होगी।
  • नदियों को जोड़ने वाली परियोजनाओं से भूमि के बड़े क्षेत्र पानी के नीचे डूब जाते हैं, जिससे लोगों के विस्थापन की समस्याएं उत्पन्न होती हैं।  विस्थापित लोगों के लिए आजीविका से संबंधित समस्याएं भी पैदा होंगी। आदिवासी इलाकों में इन परियोजनाओं से नक्सली विचारधारा में ओर इजाफा हो सकता है।
  • बांग्लादेश, म्यांमार, नेपाल, भूटान और पाकिस्तान जैसे देशों के साथ संबंध भी समस्याग्रस्त हो सकते हैं। पहले से ही सीमापार नदी जल का बंटवारा इन राष्ट्रों के साथ विवाद का कारण है।

इसमें कुछ अंतरराष्ट्रीय नदी जोड़ो परियोजनाएं शामिल हैं

  • राइन-मेन – डेंयूब नहर: यह मुख्‍य नदी को डेंयूब नदी से जोड़ती है। यह नीदरलैंड और आस-पास के क्षेत्रों में सिंचाई, बिजली उत्पादन और नौपरिवहन की सुविधा का एक समृद्ध स्रोत प्रदान करती है।
  • चीन की दक्षिण – उत्तर जल अंतरण परियोजना। इसका उद्देश्य दक्षिण में चांग नदी बेसिन को दक्षिण में पीली, हाई और उत्तर में हुआई नदियों से जोड़कर, चीन के दक्षिण में बाढ़ और उत्तर में सूखे की समस्या को दूर करना है।
  • महावेली – श्रीलंका की गंगा परियोजना में कईं अंतर-बेसिन स्थानांतरण लिंक शामिल हैं।
  • कनाडा में ओगोकी, लोंग झील और नावापा आदि परियोजनाएं।
  • अमेरिका का कैलिफोर्निया स्टेट वॉटर प्रोजेक्ट भी इसका एक अच्छा उदाहरण है।

भविष्य का रास्‍ता

  • भारत में पानी की समस्‍याओं से निपटने हेतु नदियों को आपस में जोड़ने वाली परियोजनाओं और इससे जुड़े पर्यावरणीय मूल्‍यों पर काफी शोध की आवश्‍यकता है।
  • भारत में इन परियोजनाओं के कार्यान्वयन के लिए चीन जैसी सफल अंतर्राष्ट्रीय प्रथाओं का अनुसरण करने की आवश्यकता है।
  • परियोजना के शुरू होने से पहले लोगों के पर्यावरण और जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों को ध्यान में रखा जाना चाहिए।
  • भारत में नदियों को आपस में जोड़ने के लिए एक अनिवार्य नीति की भी आवश्यकता है जिसमें ऐसी परियोजनाओं के लिए आवश्यक दिशा-निर्देशों का पालन किया जाना शामिल है।

.

Read More Articles of Geography

You Can Follow on Youtube – Score Better

.

Leave a Reply

%d bloggers like this: