Mangroves | मैंग्रोव

What is Mangroves?

मैंग्रोव (Mangroves) सामान्य रूप से सदाबहार वनों से युक्त वेलांचली वन पारिस्थितिकी तंत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं जो उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के निचले इलाकों में उगते हैं।
वे बृहत् ज्वार के उच्च जल स्तर से नीचे ही उगते हैं और अत्यधिक उत्पादक होते हैं।
पेड़ 8 से 20 मीटर तक ऊंचाई में भिन्न होते हैं। वे चक्रवात और सुनामी के प्रतिकूल प्रभाव से तटरेखा की रक्षा करते हैं।
मैंग्रोव (Mangroves) 25°उत्तर और 25°दक्षिण अक्षांशों के बीच उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाए जाते हैं।

उन्हें उच्च सौर विकिरण की आवश्यकता होती है जो उनकी जड़ों से खारे पानी को छानने में मदद करता है।
यह बताता है कि मैंग्रोव (Mangroves) केवल उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय तटीय जल तक ही सीमित क्यों हैं।

वे लवण-सहिष्णु हैं इसलिए उन्हें  लवणमृदोद्भिद्हे (लोफाइट्स) भी कहा जाता है। पत्तियां मोटी होती हैं और इनमें लवण-स्रावित ग्रंथियां भी होती हैं।

चूंकि मैंग्रोव भूमि और समुद्र के बीच पाए जाते हैं, वे संक्रमिका (इकोटोन) के सबसे अच्छे उदाहरण हैं और कई व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण मछलियों के लिए प्रजनन क्षेत्र होते हैं।
इनमें खारे पानी की तन्मयता और तरंग क्रिया से निपटने के लिए एक लवण निस्पंदन प्रणाली होती है।

वे अवायवीय मिट्टी में श्वसन समस्या को दूर करने के लिए श्‍वसन-सूल (न्यूमेटोफोरस) (ब्लाइंड रूट्स) के अधिकारी हैं

मैंग्रोव (Mangroves) प्रजनन की जरायुजता प्रणाली को दिखाते हैं जिसका अर्थ है कि बीज जमीन पर गिरने से पहले पेड़ में ही अंकुरित होते हैं।
खारे पानी में अंकुरण की समस्या को दूर करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण अनुकूली तंत्र है।

वे विभिन्न प्रकार के विन्यास में होते हैं। कुछ प्रजातियां जैसे कि राइजोफोरा की मूल जड़ें पानी तक जाती  हैं।
जबकि अन्य ऊर्ध्वाधर “श्‍वसन-सूल (न्यूमेटोफोरस)” या हवाई जड़ें कीचड़ से ऊपर की ओर चलती हैं।
जमीनी स्तर से ऊपर पेड़ के मुख्य तने से निकलने वाली विलक्षण जड़ों को अवस्तंभ मूल कहा जाता है।

श्‍वसन-सूल (Prop roots and pneumatophores)

श्‍वसन-सूल (Prop roots and pneumatophores)
अवस्तंभ मूल (Stilt roots)

मैंग्रोव के मुख्य प्रकार (Types of Mangroves)

  • लाल मैंग्रोव: वे समुद्र तट पर विकसित होते हैं और तीन प्रमुख मैंग्रोव पौधों के प्रकारों में से यह सबसे मजबुत हैं।
  • काले मैंग्रोव: इनका नाम इसलिए रखा गया है क्योंकि इनमें गहरे छाल होते हैं।
    वे आम तौर पर लाल मैंग्रोव की तुलना में अधिक ऊंचाई तक बढ़ते हैं। अधिक ऑक्सीजन तक उनकी पहुंच के कारण उनकी जड़ें अधिक फैली होती हैं।
  • सफेद मैंग्रोव: ये लाल और काले मैंग्रोव की तुलना में अधिक ऊंचाई पर उगते हैं। आम तौर पर इनकी लटकी हुए जड़ें नहीं होती। 
    लेकिन कभी-कभी खूंटी दार जड़ों की अद्वितीय वृद्धि होती है जब बाढ़ के कारण ऑक्सीजन कम हो जाती है।

भारत में मैंग्रोव (Mangroves in India)

Mangroves in India | scorebetter.in
Mangroves in India
  • मैंग्रोव वनों का विस्तार लगभग 30 देशों के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में विश्व के 2 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में है।
    भारत में मैंग्रोव का विस्तार कुल 4,482 वर्ग किमी में है जो विश्व के मैंग्रोव क्षेत्र का सिर्फ 3% है।
  • सुंदरबन के मैंग्रोव दुनिया में सबसे बड़े एकल ब्लॉक ज्वारीय हलोफाइटिक मैंग्रोव हैं।
    यह रॉयल बंगाल टाइगर और मगरमच्छों के लिए प्रसिद्ध है। यहां कृषि उपयोग के लिए मैंग्रोव क्षेत्रों को साफ किया जा रहा है।
  • उड़ीसा के भितरकनिका के मैंग्रोव भारतीय उपमहाद्वीप में दूसरा सबसे बड़ा और विशिष्ट मैंग्रोव प्रजातियों का उच्च सांद्रता वाला क्षेत्र है।
    आंध्र प्रदेश के गोदावरी-कृष्णा डेल्टा क्षेत्रों के दोनों ओर अंत:ज्वारीय कीचड़दार भूमि में मैंग्रोव दलदल रहता है।
  • मुख्य रूप से मत्स्यपालन, तालाबों के निर्माण के कारण पिचवारम और वेदारण्यम के मैंग्रोव का क्षरण हुआ है।
  • भारत के पश्चिमी तट पर, मैंग्रोव ज्यादातर अविकसित और निम्नीकृत होते हैं और महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक में ज्वारनदीमुख और खाड़ियों के बीच के क्षेत्र में पाए जाते हैं।
  • केरल के तटीय क्षेत्र में मैंग्रोव वनस्पति बहुत विरल और पतली होती है।
  • गुजरात में, मैंग्रोव मुख्य रूप से कच्छ की खाड़ी और कोरी क्रीक में पाए जाते हैं।
  •  वे आकर में कच्छ की खाड़ी में पाए जाने वाले कम ऊंचाई वाले मैंग्रोव से लेकर सुंदरबन में पाए जाने वाले ऊँचे मैंग्रोव तक के होते है ।
  • अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में छोटे ज्वारनदमुख और लैगून हैं जो घने और विविध मैंग्रोव वन का समर्थन करते हैं।

मैंग्रोव का महत्व (Importance of Mangroves)

  • मैंग्रोव वन अद्वितीय वातावरण बनाता है जो जीवों की एक विशाल विविधता के लिए पारिस्थितिक आवास प्रदान करते हैं।
  • इनकी विशेष जड़ें होती हैं जैसे कि अवस्तंभ मूल, न्यूमोफॉफ़ोर जो उन्हें पानी के प्रवाह को रोकने में मदद करते हैं और इस तरह क्षेत्रों में तलछट के जमाव को बढ़ाते हैं।
    वे तटों को स्थिर करते हैं, मछलियों को एक प्रजनन मैदान प्रदान करते हैं।
  • मैंग्रोव वन मध्यम मानसूनी बाढ़ और तटीय तराई क्षेत्रों की बाढ़ को कम करते हैं।
  •  वे तटीय क्षेत्रों की  सुनामी, तूफान और बाढ़ से रक्षा करते हैं।
  • मैंग्रोव पोषक तत्वों के प्राकृतिक पुनर्चक्रण को बढ़ाते हैं।
  •  मैंग्रोव कई वनस्पतियों, एविफ़ुना और वन्यजीवों का समर्थन करता है।
  • वे हमें स्थानीय लोगों को लकड़ी, जलाऊ लकड़ी, औषधीय पौधे और खाद्य पौधे प्रदान करते हैं।
  • वे स्थानीय समुदायों को रोजगार के विभिन्न अवसर प्रदान करते हैं और उनकी आजीविका में वृद्धि करते हैं।
  • हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि मैंग्रोव अन्य जंगलों की तुलना में अधिक कार्बन डाइऑक्साइड को संग्रहीत करते हैं।
Mangrove details | scorebetter.in
Mangrove Adaptations

मैंग्रोव के लिए खतरा (Threats to Mangrove)

  • वे शहरीकरण, औद्योगीकरण, घरेलू सीवेज के निर्वहन, औद्योगिक अपशिष्टों और कीटनाशकों के कारण गंभीर खतरों का सामना कर रहे हैं।
  • लवणकुण्ड और मत्स्यपालन भी मैंग्रोव के लिए खतरा पैदा करते हैं।
  • भारत के पश्चिमी तट में लगभग 40% मैंग्रोव वन पिछले तीन दशकों में खेत और आवास कालोनियों में परिवर्तित हो गए हैं।
  •  कुछ प्रमुख मैंग्रोव प्रजातियां जैसे ब्रुगुइरा सिलिंड्रिका और सोननेरिया एसीडा  विलुप्त होने के कगार पर हैं।
  • भारतीय विज्ञान संस्थान द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार, “भारत ने पिछली सदी में मुख्य रूप से कृषि, जलीय कृषि, पर्यटन, शहरी विकास और अतिउपयोग के कारण अपने मैंग्रोव क्षेत्र का 40% खो दिया है।”
  •  सरकारी कार्रवाई के साथ-साथ स्थानीय समुदायों की भागीदारी के साथ निम्नीकृत मैंग्रोव क्षेत्र को बहाल करने की तत्काल आवश्यकता है

मैंग्रोव संरक्षण के उपाय (Ways to Conserve Mangrove)

  • मैंग्रोव प्रजातियों के रोपण के लिए उपयुक्त स्थलों की पहचान की जानी चाहिए। संचरण उद्देश्यों के लिए मैंग्रोव नर्सरी बैंकों को विकसित किया जाना चाहिए।
  •  मौजूदा मैंग्रोव क्षेत्रों में पर्यावरण निगरानी को व्यवस्थित और सुचारु रूप से किया जाना चाहिए।
  • मैंग्रोव के लिए प्रबंधन की कार्ययोजना को लागू करने के लिए संभावित क्षेत्रों की पहचान की जानी चाहिए, विशेषकर चक्रवात वाले क्षेत्रों में।
  • मैंग्रोव संसाधनों के विभिन्न खतरों और उनके मूल कारणों की पहचान करने की आवश्यकता है ताकि उन कारणों को खत्म करने के लिए बयाना उपाय किए जाएं।
  •  संरक्षण और प्रबंधन के उद्देश्यों के लिए स्थानीय समुदाय की भागीदारी को अनिवार्य बनाया जाना चाहिए।
  • मैंग्रोव के लिए जैव विविधता एटलस तैयार करने के लिए तट के किनारे मैंग्रोव का समग्र सर्वेक्षण किया जाना चाहिए।
  • तटीय उद्योगों और निजी मालिकों को मैंग्रोव जैव विविधता की रक्षा और विकास में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  • वन अधिकारियों को मैंग्रोव प्रजातियों के वर्गीकरण, जीव विज्ञान और पारिस्थितिकी के लिए  प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।

मैंग्रोव के संरक्षण के लिए किए गए प्रयास (Various Effort to conserve Mangrove)

  • 1976 में भारतीय संविधान में संशोधन किए, जिसमें मौलिक कर्तव्यों को जोड़ा गया, जिसमें भारत के प्रत्येक नागरिक का एक कर्तव्य है कि वह वन, झीलों, नदियों और वन्य जीवन सहित प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा और सुधार करे।
  •  भारत सरकार ने मैंग्रोव संरक्षण और विकास के बारे में सलाह देने के लिए राष्ट्रीय मैंग्रोव समिति (National Mangrove Committee) की स्थापना की।
  • राष्ट्रीय वन नीति, 1988 प्राकृतिक वन पारिस्थितिकी प्रणालियों के प्रभावी संरक्षण और प्रबंधन को सूचीबद्ध करती है जिसमें वानिकी अनुसंधान के लिए प्राथमिकता क्षेत्र के रूप में मैंग्रोव पारिस्थितिकी तंत्र शामिल है।
  • भारतीय वन अधिनियम, 1927 और वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 वनस्पतियों और जीवों को संरक्षण प्रदान करता है।
    हालांकि वे विशेष रूप से मैंग्रोव का उल्लेख नहीं करते हैं, लेकिन मैंग्रोव फॉस्फेट के वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण पर भी लागू हो सकते हैं
  • पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 (Environment Protection Act, 1986) मैंग्रोव पारिस्थितिकी प्रणालियों के संरक्षण और प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
    यह एक तटीय विनियमन क्षेत्र घोषित करता है जिसमें तटीय पर्यावरण की सुरक्षा के लिए औद्योगिक और अन्य गतिविधियाँ प्रतिबंधित हैं।
  • भारत सहित वैश्विक स्तर पर रामसर कन्वेंशन के तहत कई मैंग्रोव साइटें संरक्षित हैं।
  • आईयूसीएन और  नेचर कंजर्वेंसी ने मैंग्रोव बहाली के उद्देश्य के लिए एक वैश्विक वैज्ञानिक मानचित्र तैयार किया है।
  • आईयूसीएन और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा की गई पहल मैंग्रोव्स फॉर  फ्यूचर (Mangroves for the Future  MFF) है। यह कई एशियाई देशों में एक मुख्य रणनीति के रूप में लैंगिक एकीकरण के साथ मैंग्रोव बहाली और सतत विकास परियोजनाएं भी चला रहा है।
  • मैंग्रोव की रक्षा के लिए सख्त कानून कई देशों में लागू है। उदाहरण के लिए इंडोनेशिया
  • ग्लोबल मैंग्रोव एलायंस (GMA) संगठन 2030 तक वर्तमान सीमा से 20 प्रतिशत अधिक मैंग्रोव आरक्षित क्षेत्र बढ़ाने के लक्ष्य का समर्थन कर रहा है।
  •  ग्लोबल मैंग्रोव वॉच (Global Mangrove Watch) जैसे संगठन मैंग्रोव संरक्षण की दिशा में अथक प्रयास कर रहे हैं।
  • वेटलैंड्स इंटरनेशनल के पास मैंग्रोव संरक्षण में विभिन्न हितधारकों के साथ जुड़ने का एक उचित अनुभव है। यह मैंग्रोव संरक्षण की दिशा में काम करने के लिए कुछ अन्य संगठनों IUCN और ग्लोबल मैंग्रोव एलायंस (Global Mangrove Alliance– GMA) के साथ जुड़ा हुआ  है।

आगे का रास्ता

  • मैंग्रोव वनों (Mangrove Forest) के लिए गंभीर खतरों को संबोधित करने और सरकारों, गैर सरकारी संगठनों और तटीय समुदायों जैसे हितधारकों को सक्षम करने के लिए एक साथ काम करने की आवश्यकता है, ताकि वे निरंतर प्रबंधन कर सकें।
    हमें की असल अहमियता में इन तटीय पारिस्थितिकी प्रणालियों की  बहुमूल्यता को समझने और इसके संरक्षण के अनुसार काम करने की आवश्यकता है।
  • वर्तमान स्थिति का आकलन करने के लिए मैंग्रोव वन की आवधिक निगरानी बहुत आवश्यक है।
    समुद्री वनस्पतियों और जीवों पर पर्यावरण और मानव हस्तक्षेप के प्रभाव का अधिक बार मूल्यांकन किए जाने की आवश्यकता है।
  •  तटीय समुदायों के पारंपरिक अधिकारों को भी प्राथमिकता के आधार पर मान्यता दी जानी चाहिए।

.

Read More Articles of Geography

You Can Follow on Youtube – Score Better

.

Leave a Reply

%d bloggers like this: