Industrial Revolution took place in Britain from 18th C to mid-19th Century.
Industrial Revolution means mass production of goods, through the invention of new factors of production – machines and techniques in textiles, iron making and other industries.
It brought about a social and economic transition in Britain from stable agriculture to commercial society, cottage industries to mechanised industries, rural to urban life.

Factors responsible for the Industrial Revolution in Britain

Political and economic conditions:

Britain created favourable political conditions, which furthered the process of growth of the Industrial Revolution, including:

  • Enactment of laws to remove trade barriers and create a common market helped the merchants.
  • Capturing the foreign markets largely with the progress achieved in transportation.
  • The policy of Mercantilism: Many European countries had followed this policy since the mid-Eighteenth century. According to this theory:
    • Control over industries and trade by the Government
    • Limited governmental interference in trade
    • This theory advocated that national strength depends on more exports and fewer imports.
    • This theory assumed that the wealth of a nation depends on the possession of gold and silver.
  • Laws for Trade secrets: In order to safeguard its interests, Britain enacted laws to prohibit technology transfer to other countries.
  • Britain brought about several reforms and inventions boosted agricultural production, including:
    • Enclosure Acts: Britain passed 1000 such laws. It means consolidation of small landholdings to form large fields by taking over all the open or wastelands and community lands.
    • Technological Innovations in agriculture for instance Jethro Tull’s Seed Planting Drill which helped in planting seeds at uniform intervals and depths without any wastage.
    • These reforms and mechanization rendered many labourers landless, which led to the migration of people from agriculture to factories for jobs.
    • These conditions created the availability of cheap and abundant labour to work in the factories

Geographical Location of Industrial Revolution:

Britain enjoys following favourable geographical conditions like:

  • Location advantage i.e. a safe and secured island location with easy proximity to the sea.
  • Humid climate ideal for raising sheep (as we have already discussed outcompeted in textile industries)
  • Navigation channels: Being an island nation, Britain is surrounded by waterways like sea, rivers and canals, which facilitated to have the largest free trade area, without any barriers or tolls. Discovery of trade routes led to the expansion of the market.

These advantages helped Britain a favourable location for the Industrial Revolution.

Technological Innovations:

Till the eighteenth century, Britain economy is characterised by cottage industries and rural life. Government and Businessmen and venture capitalists financed R&D programs, which witnessed breakthroughs in many sectors.

  • Since, Eighteenth-century, innovations such as the spinning jenny, the flying shuttle, the water frame and the power loom made spinning yarn and thread and weaving cloth much easier. This led to more efficient and mechanised production of cloth fabrics.
  • Invention of the steam engine led to the efficient transport of goods like coal and other resources.
  • Developments achieved in coal mining such as tunnel ventilation, transportation of coal, use of gunpowder to blast away ridges and the use of safety lamps.
  • Development of wooden steam-powered ships, Iron built ships, the first steam locomotive engine provided a reliable system of transportation.
  • Faster ways of transport (rail and ships) and communications (telegraph and telephone) made government and business transactions possible instantly.

These effects of the Industrial Revolution were felt worldwide. France after 1830, Germany after 1850 and the U.S. after the Civil War started industrialisation. However, it had both a positive and negative impact on society.

Positive Impact of the Industrial Revolution

Industrial Revolution brought significant changes in the quality of life and in production processes.

Economic: 

  • It increased wealth, the production of goods, and improved the quality of living
  • Stimulated the movement of people towards cities which led to the growth of urban society and employment opportunities.

Social:

  • Access to cheaper goodshealthier dietseducation and improved housing.
  • Edward Jenner invented a vaccine for smallpox and Louis Pasteur discovered bacteria.
  • Improved healthcare and education increased life span.

The negative impact of the Industrial Revolution

  • Industrial Revolution caused competition for colonies among the European countries and rivalry, particularly between Britain and France. Later on Italy, Germany and other countries also competed for colonisation.
  • The imperialist expansions resulted in a struggle for supremacy and these led to two World Wars later.
Economic:
  • Exploitation of colonies and destruction of their traditional social, economic and political systems.
  • Industrialisation left a large number of people
Social:
  • Workers in coal mines suffered from many health complications like lung diseases with blasting technique.
  • long working hours on low wages,
  • Women and children were discriminated and were paid very low wages.
  • Bad working conditions like factories were poorly ventilated, dirty, noisy, dark and damp environment.

Reform Movements

These horrible working conditions in factories, injustice caused to workers and discrimination in wages resulted in social movements.  Many laws were made to reform the working and living conditions.

  • In 1868, Trade Unions Congress was established for collective bargaining and they employed “strike” as a weapon.
  • The Factory Act is extended to include all workplaces employing more than fifty workers.
  • In 1870, the Britain government passed Forster’s Education Act, whichenforced compulsory education for the first time.
  • In 1875, a law that prohibited boys from climbing chimneys to clean them.
  • These imperialist expansions led to struggle for supremacy and the two world wars (World War I and World War II) about which you will read in detail in the forthcoming articles.

Conclusion of the Industrial Revolution

Industrial Revolution changed the methods of production and transformed social and economic life in a great way. This played an integral role in laying the foundations for the modern society and became a harbinger for future inventions for the betterment of humankind.

However, it created new class divisions that led to economic and social inequalities. The adverse effects of Industrial Revolution later culminated into world wars.

.

Read More Articles of History

Follow on Youtube Channel Score Better

.

औद्योगिक क्रांति

औद्योगिक क्रांति ब्रिटेन में 18 वीं शताब्दी से लेकर 19 वीं शताब्दी के मध्य में हुई।
औद्योगिक क्रांति का अर्थ है उत्पादन के नए कारकों के आविष्कार के माध्यम से – कपड़ा, लोहा बनाने और अन्य उद्योगों में मशीन और तकनीक का प्रयोग- माल के बड़े पैमाने पर उत्पादन ।
इससे स्थिर कृषि से वाणिज्यिक समाज, कुटीर उद्योगों से लेकर मशीनीकृत उद्योगों, ग्रामीण से शहरी जीवन तक ब्रिटेन में सामाजिक और आर्थिक बदलाव आए।

ब्रिटेन में औद्योगिक क्रांति के लिए जिम्मेदार कारक

राजनीतिक और आर्थिक स्थिति:

ब्रिटेन ने अनुकूल राजनीतिक परिस्थितियों का निर्माण किया, जिसने औद्योगिक क्रांति के विकास की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया, जिसमें शामिल हैं:

  • व्यापार बाधाओं को दूर करने और एक साझा बाजार बनाने के लिए कानूनों को लागू करने से व्यापारियों को मदद मिली।
  • परिवहन में प्राप्त प्रगति के साथ बड़े पैमाने पर विदेशी बाजारों पर कब्जा करना।
  • व्यापारीवाद की नीति: मध्य-अठारहवीं शताब्दी के बाद से कई यूरोपीय देशों ने इस नीति का पालन किया था। इस सिद्धांत के अनुसार:
    • सरकार द्वारा उद्योगों और व्यापार पर नियंत्रण
    • व्यापार में सीमित सरकारी हस्तक्षेप
    • इस सिद्धांत ने वकालत की कि राष्ट्रीय ताकत अधिक निर्यात और कम आयात पर निर्भर करती है।
    • इस सिद्धांत ने माना कि एक राष्ट्र की संपत्ति सोने और चांदी के भंडार पर निर्भर करती है।
  • व्यापार रहस्य के लिए कानून: अपने हितों की रक्षा के लिए, ब्रिटेन ने अन्य देशों में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को प्रतिबंधित करने के लिए कानून बनाए।
  • ब्रिटेन कृषि सुधार को बढ़ावा देने वाले कई सुधारों और आविष्कारों को लाया, जिनमें शामिल हैं:
    • संलग्नक अधिनियम: ब्रिटेन ने ऐसे 1000 कानून पारित किए। इसका अर्थ है कि सभी खुली या बेकार भूमि और सामुदायिक भूमि पर कब्जा करके बड़े क्षेत्रों का निर्माण करने के लिए छोटे भूमि धारण का समेकन।
    • उदाहरण के लिए जेथ्रो टुल्ल सीड प्लांटिंग ड्रिल में कृषि में तकनीकी नवाचार जो बिना किसी अपव्यय के समान अंतराल और गहराई पर बीज लगाने में मदद करते हैं।
    • इन सुधारों और मशीनीकरण ने कई मजदूरों को भूमिहीन बना दियाजिसके कारण कृषि से लेकर कारखानों में नौकरियों के लिए लोगों का पलायन हुआ।
    • इन स्थितियों ने कारखानों में काम करने के लिए सस्ते और प्रचुर श्रम की उपलब्धता बनाई।

भौगोलिक स्थिति:

ब्रिटेन को निम्नलिखित अनुकूल भौगोलिक परिस्थितियों का लाभ मिलता है:  

  • स्थान लाभ यानी नदी से निकटता के साथ एक सुरक्षित द्वीप स्थान।
  • भेड़ को पालने के लिए आदर्श नम जलवायु (जैसा कि हम पहले ही वस्त्र उद्योगों में चर्चा कर चुके हैं)
  • नेविगेशन चैनल: एक द्वीप राष्ट्र होने के नाते, ब्रिटेन समुद्र, नदियों और नहरों जैसे जलमार्गों से घिरा हुआ है, जिसमें बिना किसी बाधा या टोल के सबसे बड़ा मुक्त व्यापार क्षेत्र होने की सुविधा है। व्यापार मार्गों की खोज से बाजार का विस्तार हुआ।

इन लाभों ने ब्रिटेन को औद्योगिक क्रांति के लिए एक अनुकूल स्थान बनाने में मदद की।

तकनीकी नवाचार:

अठारहवीं शताब्दी तक, ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था कुटीर उद्योगों और ग्रामीण जीवन की विशेषता है। सरकार और व्यवसाय के पुरुष और उद्यम पूंजीपतियों ने अनुसंधान और विकास कार्यक्रमों को वित्तपोषित किया, जिसने कई क्षेत्रों में सफलता देखी।

  • अठारहवीं शताब्दी के बाद से,कताई जेनी,फ्लाइंग शटल,पानी के फ्रेम और पावर लूम जैसे नवाचारों ने सूत और धागा कताई और कपड़े की बुनाई को बहुत आसान बना दिया। इससे कपड़े का अधिक कुशल और यंत्रीकृत उत्पादन हुआ।
  • भाप इंजन के आविष्कार से कोयले और अन्य संसाधनों जैसे माल का कुशल परिवहन हुआ।
  • कोयला खनन में प्राप्त विकास जैसे सुरंग वेंटिलेशनकोयले का परिवहनदूर-दूर तक विस्फोट करने के लिए बारूद का उपयोग और सुरक्षा लैंप का उपयोग।
  • लकड़ी के भाप से चलने वाले जहाजों का विकासलोहे से निर्मित जहाजपहला भाप लोकोमोटिव इंजन परिवहन की विश्वसनीय प्रणाली प्रदान करता है।
  • परिवहन (रेल और जहाजों) और संचार (टेलीग्राफ और टेलीफोन) के तेज़ तरीकों ने सरकार और व्यापार लेनदेन को तत्काल करना संभव बना दिया।

औद्योगिक क्रांति के इन प्रभावों को दुनिया भर में महसूस किया गया था। 1830 के बाद फ्रांस, 1850 के बाद जर्मनी और गृह युद्ध के बाद अमेरिका का औद्योगिकीकरण शुरू हुआ। हालाँकि इसका लोगों पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह का प्रभाव पड़ा।

सकारात्मक प्रभाव

औद्योगिक क्रांति जीवन की गुणवत्ता और उत्पादन प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण बदलाव लाई।

आर्थिक: 

  • इसने धन में वृद्धि, वस्तुओं का उत्पादन और जीवन स्तर में सुधार किया
  • शहरों की ओर लोगों के आंदोलन को बढ़ावा दिया जिसके कारण शहरी समाज और रोजगार के अवसर बढ़े।

सामाजिक:

  • सस्ते सामान, स्वस्थ आहार, शिक्षा और बेहतर आवास तक पहुंच।
  • एडवर्ड जेनर ने चेचक के लिए टीके का आविष्कार किया और लुई पाश्चर ने जीवाणुओं की खोज की।
  • बेहतर स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा ने जीवन काल बढ़ाया।

नकारात्मक प्रभाव

  • औद्योगिक क्रांति ने यूरोपीय देशों और विशेष रूप से ब्रिटेन और फ्रांस के बीच प्रतिद्वंद्विता के लिए उपनिवेशों के लिए एक प्रतियोगिता का कारण बना। बाद में इटली, जर्मनी और अन्य देशों ने भी उपनिवेश के लिए प्रतिस्पर्धा की।
  • साम्राज्यवादी विस्तार के कारण वर्चस्व का संघर्ष हुआ और बाद में दो विश्व युद्ध हुए।

आर्थिक:

  • उपनिवेशों का शोषण और उनके पारंपरिक सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक प्रणालियों का विनाश।
  • औद्योगिकीकरण ने बड़ी संख्या में लोगों को भूमिहीन बना दिया। 

सामाजिक:

  • कोयला खदानों में श्रमिकों को कई स्वास्थ्य जटिलताओं से सामना करना पड़ा, जैसे कि ब्लास्टिंग तकनीक से फेफड़े के रोग।
  • कम वेतन पर लंबे समय तक काम करना,
  • महिलाओं और बच्चों के साथ भेदभाव किया गया और उन्हें बहुत कम वेतन दिया गया।
  • कारखानों की तरह खराब काम की स्थिति – खराब हवादार, गंदी, शोर, अंधेरे और नम वातावरण ।

सुधार आंदोलन

कारखानों में ये विकराल काम करने की स्थिति, श्रमिकों के साथ अन्याय और मजदूरी में भेदभाव के कारण सामाजिक आंदोलन हुए। काम करने और रहने की स्थिति में सुधार के लिए कई कानून बनाए गए थे।

  • 1868 में, ट्रेड यूनियन्स कांग्रेस सामूहिक सौदेबाजी के लिए स्थापित की गई थी और उन्होंने एक हथियार के रूप में “हड़ताल” को नियोजित किया था।
  • फैक्ट्री अधिनियम को पचास से अधिक श्रमिकों को रोजगार देने वाले सभी कार्यस्थलों को शामिल करने के लिए विस्तारित किया गया है।
  • 1870 में, फोर्स्टर एजुकेशन एक्ट जिसने पहली बार अनिवार्य शिक्षा लागू की थी।
  • 1875 में, एक कानून जिसमें लड़कों को चिमनी पर चढ़ कर उन्हें साफ करने के लिए प्रतिबंधित किया था।
  • इन साम्राज्यवादी विस्तार ने वर्चस्व और दो विश्व युद्धों (प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध) के लिए संघर्ष किया जिसके बारे में आप आगामी लेखों में विस्तार से पढ़ेंगे।

निष्कर्ष

औद्योगिक क्रांति ने उत्पादन के तरीकों को बदल दिया और सामाजिक और आर्थिक जीवन को शानदार तरीके से परिवर्तित किया। इसने आधुनिक समाज की नींव रखने में एक अभिन्न भूमिका निभाई और मानव जाति की बेहतरी के लिए भविष्य के आविष्कारों के लिए एक अग्रदूत बन गया।

हालाँकि,इसने नए वर्ग विभाजन पैदा किए जिससे आर्थिक और सामाजिक असमानताएँ पैदा हुईं। औद्योगिक क्रांति के दुष्परिणामों का बाद में विश्व युद्धों में समापन हुआ।

.

Read More Articles of History

Follow on Youtube Channel Score Better

.

Kindly Provide Your Positive Feedback, Thank You