Various rulers established their control after the Mauryan Empire: the Shungas, Kanvas, Kushanas, and Guptas in the north and parts of central India; the Satvahanas, Ikshvakus, Abhiras, Vakatakas in southern and western India. This period also witnessed the rise of the main Brahmanical sects like the Vaishnavas and the Shaivas.

This period also saw the emergence of Brahmanical sects like the Shaivas and the Vaishnavas.

Chief examples of fine sculpture are found at Bharhut and Vidisha (Madhya Pradesh); Mathura (Uttar Pradesh); Bodhgaya (Bihar); Jaggayyapeta (Andhra Pradesh); Bhaja and Pavani (Maharashtra); and Khandagiri and Udaigiri (Odisha).

Bharhut Post-Mauryan Art and Architecture

  • Bharhut sculptures are tall, like the images of Yaksha and Yakhshini in the Mauryan period.
  • Illusion of three-dimensionality is present. Space is used to the maximum extent.
  • Narrative panels are shown in the pictorial space with fewer characters along with other characters.  Jataka tales are also seen.
  • Initially, the carvings were shown with flat images, i.e., projection of hands and feet were not possible due to shallow carving of the picture surface, but later on they emerged with deep carvings and a much naturalised representation of human and animal forms.
Bharhut Post-Mauryan Art and Architecture |
Post-Mauryan Art and Architecture

Sanchi Stupa – Lion Capital, Sarnath

  • One of the finest examples of Mauryan sculpture in a dilapidated condition.
  • Though Stupa 1 is the oldest stupa, the carvings of images on the vedika of Stupa 2 are earlier than those on Stupa 1.
  • The Ashokan lion-capital pillar with an inscription is found on the southern side of the stupa.
  • Each torana consists of 2 vertical pillars and 3 horizontal bars on the top. Each horizontal bar is decorated with various sculptural themes on the front as well as at the back.
  • There are guardian images on pillars and the shalabhanjika (i.e., lady holding the branch of a tree) sculptures.
  • Carving techniques appear more advanced than Bharhut.

Mathura and Gandhara Schools

1. Gandhara School of Art:

  • The sculptural tradition in Gandhara was influenced by Bactria, Parthia, and the local Gandhara tradition.
  • The Buddha image has Hellenistic features.
  • The Gandhara images have physiognomic features of the Greco-Roman tradition but they display a very distinct way of treating physiognomic details that are not completely Greco-Roman.
  • The source of development of Buddha images has its genesis in its peculiar geopolitical conditions.
  • The northwestern part of India (now Pakistan) always had continuous habitation from protohistoric times. It continued in the historical period as well.
Post-Mauryan Art and Architecture
Post-Mauryan Art and Architecture

2. Mathura School of Art:

  • Mathura’s local sculptural tradition spread to other parts of northern India, for example, stupa sculptures at Sanghol (Punjab).
  • A large number of images dating back to the Kushana Period.
  • The Buddha image is modelled on the lines of earlier Yaksha images.
  • Images of Vaishnava (mainly Vishnu and his various forms) and Shaiva (mainly the lingam and mukhalingam) faiths, represented by their ayudhas (weapons), are also found at Mathura but Buddhist images are found in large numbers.

3. Sarnath and Kosambi

  • Many Buddha images in Sarnath have plain transparent drapery covering both shoulders, and the halo around the head has very little ornamentation whereas the Mathura Buddha images continue to depict folds of the drapery in the Buddha images and the halo around the head is profusely decorated. 

Buddhist Monuments of South India

Amaravati School of Art:

  • Amaravati has a mahachaitya and has many sculptures. It also has pradakshina patha enclosed within a vedika on which many narrative sculptures are depicted.
  • The domical stupa structure is covered with relief stupa sculptural slabs which is a unique feature.
  • Events from the life of the Buddha and the Jataka stories are depicted. It was first built in the first century CE and in later centuries developed or enhanced.
  • The early phase is devoid of Buddha images but during the second and third centuries CE, the Buddha images are carved on the drum slabs and at many other places.
  • Interior space in the composition is created by different postures of the figures such as semi-back, back, profile, frontal, semi-frontal, side, etc.
  • Figures are slender, have a lot of movement, bodies are shown with three bents (i.e. tribhanga), and the sculptural composition is more complex than at Sanchi.
  • Linearity becomes flexible, dynamic movement breaks the staticness of form.
  • The animated movement in the figures gets reduced in the sculptures of Nagarjunakonda and Goli in the third century CE, protruding surfaces of the body look very integral.
  • Independent Buddha images are also found at Amaravati, Nagarjunakonda and Guntapalle. Guntapalle is a rock-cut cave site near Eluru.
  • Small apsidal and circular chaitya halls have been excavated belonging to the second century BC.
Post-Mauryan Art and Architecture
Post-Mauryan Art and Architecture

Cave Tradition in Western India

  • Many Buddhist caves dating back to the second century BCE onwards have been excavated.

Mainly three architectural types were executed:

(i) Apsidal vault-roof chaitya halls (found at Ajanta, Pitalkhora, Bhaja)

(ii) Apsidal vault-roof pillarless hall (found at Thana-Nadsur)

(iii) Flat-roofed quadrangular hall with a circular chamber at the back (found at Kondivite).

  • The front of the chaitya hall is dominated by the motif of a semi-circular chaitya arch with an open front which has a wooden façade and there is no dominating chaitya arch window at Kondivite. In all the chaitya caves a stupa at the back is common.
  1. Ajanta Caves
  • It is located in Aurangabad District of Maharashtra.
  • It has 29 caves. Ajanta also has excavated double-storeyed caves.
  • The caves of the early phase also have paintings with considerable naturalism and there is no over-stylisation especially Cave Nos. 9 and 10. Paintings in Cave No. 10 shows plastering over the early inscriptions. The paintings in Cave No. 9 are part of the preplanning. They belong to the first century BC.
  • The figures are broad with heavy proportion and arranged in the picture space in a linear way. Lines are sharp. Colours are limited.
  • Figures appear like the Sanchi sculptures which indicate how the lithic and painting traditions were progressing simultaneously.
  • Architectural setting is simple and the arrangement of figures is delineated in the circular form to create three dimensionality.
  • The themes of the paintings are the events from the life of the Buddha, the Jatakas and the Avadanas. Some paintings such as Simhala Avadana, Mahajanaka Jataka and Vidur Pandita Jataka cover the entire wall of the cave. 

2. Ellora Caves

  • This cave site is located in Aurangabad District is Ellora.
  • It is located 100 kms from Ajanta and has 32 Buddhist, Brahmanical and Jain caves.
  • It has monasteries associated with the three religions dating from the fifth century CE onwards to the eleventh century CE.
  • It has a confluence of many styles at one place. The caves of Ellora and Aurangabad show the ongoing differences between the two religions—Buddhism and Brahmanical.
  • There are 12 Buddhist caves having many images belonging to Vajrayana Buddhism like Tara, Mahamayuri, Akshobhya, Avalokiteshwara, Maitrya, Amitabha, etc. Buddhist caves are big in size and are of single, double and triple storeys.
  • Ellora has triple storey caves. All the caves were plastered and painted.
  • The shrine of Buddha images is big in size; guarded by the images of Padmapani and Vajrapani.

3. Elephanta Caves

  • Located near Mumbai.
  • Originally a Buddhist site but later dominated by the Shaivite faith.
  • Its sculptures show slenderness in the body, with stark light and dark effects.
  • The other cave site is Bagh located near Indore (Madhya Pradesh). 

Cave Tradition in Eastern India

  • Buddhist caves have been excavated in the coastal region of Andhra Pradesh (Guntapalle in Eluru district), and in Odisha.
  • The Guntapalle chaitya cave (2nd century BC) is circular with a stupa in the circular hall and a chaitya arch carved at the entrance.
  • The main vihara caves of small dimensions have been decorated with chaitya arches on the exterior. They are rectangular with vaulted roofs and are carved single-storeyed or double-storeyed without a large central hall.

.

मौर्योत्तर कालीन कला एवं स्थापत्यकला
(Post-Mauryan Art and Architecture)

विभिन्न शासकों ने मौर्य साम्राज्य के बाद अपना नियंत्रण स्थापित किया: उत्तर भारत और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में शुंग, कण्व, कुषाण और गुप्त; सातवाहनों, इक्ष्वाकु, अबीर, दक्षिण और पश्चिमी भारत में वाकाटक। इस अवधि में वैष्णवों और शैवों जैसे प्रमुख ब्राह्मणवादी संप्रदायों का उदय भी हुआ।

भरहुत

  • भरहुत में पाई गई मूर्तियां मौर्यकालीन यक्ष और यक्षिणी की प्रतिमा की तरह दीर्घाकार (लंबी) है।
  • प्रतिमाओं के आयतन के निर्माण में कम उभार है लेकिन रैखिकता का ध्यान रखा गया है।
  • नैरेटिव पैनल को अन्य पात्रों के साथ कम पात्रों के साथ चित्रात्मक स्थान में दिखाया गया है। जातक कथाएँ भी देखी जाती हैं।
  • प्रारंभ में, सतह को तैयार करना प्रमुख कार्य होता था और उसके बाद मानव शरीर तथा अन्य रूपों को उकेरा या बनाया जाता था, अर्थात, चित्र सतह की उथली नक्काशी के कारण हाथों और पैरों का प्रक्षेपण संभव नहीं था, लेकिन बाद में वे गहरी नक्काशी और मानव और पशु रूपों के प्राकृतिक प्रतिनिधित्व के साथ उभरे।
Bharhut Post-Mauryan Art and Architecture |

सांची स्तूप – लायन कैपिटल, सारनाथ

  • जीर्ण-शीर्ण अवस्था में मौर्यकालीन मूर्तिकला के बेहतरीन उदाहरणों में से एक है।
  • अशोक का लायन कैपिटल- शिलालेख के साथ स्तूप के दक्षिणी ओर पाया जाता है।
  • इसके प्रत्येक तोरण में 2 ऊर्ध्वाधर खंभे और शीर्ष पर 3 क्षैतिज पट्टियाँ मौजूद हैं। प्रत्येक क्षैतिज पट्टी को आगे और पीछे की ओर से विभिन्न मूर्तिकला विषयों से सुसज्जित किया गया है।
  • स्तंभों पर संरक्षक चित्र हैं और शालभंजिका (अर्थात एक पेड़ की शाखा पकड़े महिला) मूर्तियां मौजूद हैं।
  • नक्काशी तकनीक भरहुत की तुलना में अधिक उन्नत दिखाई देती है।

मथुरा और गांधार कला

1. गांधार कला

  • गांधार में मूर्तिकला परंपरा बैक्ट्रिया, पार्थिया और स्थानीय गांधार परंपरा से प्रभावित थी।
  • बुद्ध की छवि में हेलेनिस्टिक विशेषताएं हैं।
  • गांधार छवियों में ग्रीको-रोमन परंपरा की शारीरिक विशेषताएं हैं, लेकिन वे भौतिक विवरण को एक भिन्न तरीके से प्रदर्शित करती हैं जो पूरी तरह से ग्रीको-रोमन नहीं हैं।
  • बुद्ध की छवियों के विकास का स्रोत इसकी भू-राजनीतिक स्थितियों में इसकी उत्पत्ति है।
  • भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग (अब पाकिस्तान) के उद्गम को प्रोटो इतिहास काल से देखा जा सकता है। यह पूर्वोत्तर काल में भी जारी रहा।
Post-Mauryan Art and Architecture
Post-Mauryan Art and Architecture

2. मथुरा कला

  • मथुरा की स्थानीय मूर्तिकला परंपरा उत्तरी भारत के अन्य हिस्सों में फैली है, उदाहरण के लिए, संघोल (पंजाब) में स्तूप की मूर्तियां।
  • कुषाण काल ​​में भी बड़ी संख्या में छवियां पाई गई थी।
  • बुद्ध की छवि को यक्ष चित्रों की तर्ज पर बनाया गया है।
  • वैष्णव प्रतिमाएँ (मुख्य रूप से विष्णु और उनके विभिन्न रूपों की प्रतिमाएँ) और शैव प्रतिमा (मखु्य रूप से उनके लिंग और मखु लिंगों की प्रतिमाएँ) भी मथुरा में पाई गई हैं, लेकिन संख्या की दृष्‍टि से बुद्ध की प्रतिमा अधिक पाई गई हैं। विष्णु और शिव की प्रतिमा उनके आयुधों (चक्र और त्रिशूल) के साथ प्रस्तुत की गई है।

3. सारनाथ और कौशांबी

  • सारनाथ में पाई जाने वाली बुद्ध प्रतिमा में दोनों कंधों को वस्त्र से ढका हुआ दिखाया गया है। सिर के चारों ओर आभामंडल बना हुआ है जिसमें अलंकरण (सजावट) बहुत कम किया हुआ है जबकि मथुरा में बुद्ध की मूर्तियों में ओढ़ने के वस्त्र की कई तहें दिखाई गई हैं और सिर के चारों ओर आभामंडल को अत्याधुनिक सजाया गया है।

दक्षिण भारत के बौद्ध स्मारक

अमरावती:

  • अमरावती में एक महाचैत्य है और कई मूर्तियां हैं। इसमें एक वेदिका के भीतर संलग्न प्रदक्षिणा पीठ भी है, जिस पर कई कथा मूर्तियों को दर्शाया गया है।
  • घरेलू स्तूप संरचना स्तूप मूर्तिकला स्लैब से ढकी हुई है जो एक अनूठी विशेषता है।
  • बुद्ध के जीवन और जातक कथाओं को दर्शाया गया है। इसे पहली बार प्रथम शताब्दी में बनाया गया था और बाद में इसे विकसित किया गया।
  • प्रारंभिक चरण बुद्ध की छवियों से रहित है, लेकिन दूसरी और तीसरी शताब्दी ईसा के दौरान, बुद्ध की छवियों को ड्रम स्लैब और कई अन्य स्थानों पर उकेरा गया है।
  • संयोजन के भीतरी अंतराल में आकृतियों को नाना रूपों, मुद्राओं, आसनों, जैसे—सामने से, पीछे से, आगे से और एक तरफ से दिखाया गया है। 
  • आकृतियाँ पतली हैं, उसमें गति और शरीर में तीन भंगिमा (त्रिभंग रूप में) दिखाई गई हैं।
  • रैखिकता में लोच आ गया है और प्रतिमा में दिखाई गई गतिशीलता निश्‍चलता को दूर कर देती है।  
  • ईसा की तीसरी शताब्दी में नागार्जुनकोंडा र्जु और गोली की प्रतिमाओं में आकृतियों की अनुप्राणित गति कम हो जाती है।
  • अमरावती, नागार्जुनकोंडा और गुंटापल्ली (आंध्र प्रदेश) में बुद्ध की स्वतंत्र प्रतिमाएँ भी पाई जाती हैं।
  • यहाँ छोटे गज पृष्ठीय (बहु कोणीय) तथा वृत्ताकार चैत्य कक्ष ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी में खोदकर बनाए गए थे।
Post-Mauryan Art and Architecture
Post-Mauryan Art and Architecture

पश्चिमी भारत में गुफा परंपरा

  • दूसरी शताब्दी ईसा के पश्चात कई बौद्ध गुफाओं की खुदाई की गई है।

मुख्य रूप से तीन वास्तुशिल्प प्रकारों को निष्पादित किया गया था:

(i) गज पृष्ठीय मेहराबी छत वाले चैत्य कक्ष (जो अजंता, पीतलखोड़ा, भज में पाए जाते हैं)

(ii) गज पृष्ठीय मेहराबी छत वाले स्तंभहीन कक्ष (जो महाराष्‍ट्र के थाना-नाडसर में मिलते है)

(iii) सपाट छत वाले चतुष्कोणीय कक्ष जिसके पीछे की ओर एक वृत्ताकर छोटा कक्ष होता है (जैसा कि महाराष्ट्र के कोंडिवाइट में पाया गया)।

  • चैत्य के विशाल कक्ष में अर्द्ध-वृत्ता कार चैत्य चाप (मेहराब) की प्रधानता होती थी,  सामने का हिस्सा खुला होता था जिसका मोहरा लकड़ी का बना होता था, और कुछ मामलों में बिना खिड़की वाले मेहराब पाए जाते हैं जैसा कि कोंडिवाइट में भी देखा गया है। सभी चैत्य गुफ़ाओं में पीछे की ओर स्तूप बनाना आम बात थी।
  1. अजंता की गुफाएं
  • यह महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है।
  • इसमें 29 गुफाएँ हैं। अजंता ने दो मंजिला गुफाओं की भी खुदाई की है।
  • प्रारंभिक चरण यानी ईसा पूर्व दूसरी और पहली शताब्दी (गुफा सं . 10 व 9) और परवर्ती चरण यानी ईसा की पाँचवीं शताब्दी (गुफा सं . 19 व 26) है। इसमें बड़े-बड़े चैत्य-विहार हैं और ये प्रतिमाओं तथा चित्रों से अलंकृत है।
  • आकृतियाँ काफी व्यापक हैं और एक रेखीय रूप में व्यवस्थित हैं। इन चित्रों में रेखाएँ पैनी हैं, रंग सीमित ह
  • इन गफु़ाओ में आकृतियाँ स्वाभाविक रूप से बिना बढ़ा-चढ़ा कर अलंकृत किए हुए रंगी हैं।
  • वास्तुकला सरल है और आकृतियों को तीन आयामी बनाने के लिए परिपत्र रूप में चित्रित किया गया है।
  • इन प्रतिमाओं के विषय बुद्ध के जीवन की घटनाएं, जातक और अवदान कथाओं के प्रसंग हैं। कुछ चित्र, जैसे—सिंहल अवदान, महाजनक जातक और विधुर पडिंत जातक के प्रसंग गुफ़ा की संपर्णू दीवार को ढके हुए हैं। 

2. एलोरा की गुफाएं

  • यह गुफा स्थल औरंगाबाद जिले में स्थित है।
  • यह अजंता से 100 किलोमीटर दूर स्थित है और इसमें 32 बौद्ध, ब्राह्मण और जैन गुफाएँ हैं।
  • इसमें तीनों धर्मों से जुड़ी पांचवीं शताब्दी से लेकर ग्यारहवीं शताब्दी तक के मठ हैं।
  • इसमें एक ही स्थान पर कई शैलियों का संगम है। एलोरा और औरंगाबाद की गुफाएं दो धर्मों – बौद्ध धर्म और ब्राह्मणवादी के बीच चल रहे मतभेदों को दर्शाती हैं।
  • 12 बौद्ध गुफाएं हैं जिनमें वज्रयान बौद्ध धर्म से संबंधित कई चित्र हैं जैसे तारा, महामायूरी, अक्षोभ्य, अवलोकितेश्वर, मैत्र्य, अमिताभ, आदि। बौद्ध गुफाएँ आकार में बड़ी हैं और ये एकल, दोहरी और तिहरी मंजिलों की हैं।
  • एलोरा में ट्रिपल मंजिला गुफाएं हैं। सभी गुफाओं के समतल पर चित्र उकेरे गए हैं।
  • अधिष्‍ठाता बुद्ध की प्रतिमा आकार में बड़ी हैं और पद्मपाणि तथा वज्रपाणि की प्रतिमाएँ आमतौर पर उनके अंगरक्षक के रूप में बनाई गई है।

3. एलीफेंटा की गुफाएं

  • मुंबई के पास स्थित हैं।
  • मूल रूप से एक बौद्ध स्थल लेकिन बाद में शैव आस्था के वर्चस्व से प्रभावित हुई।
  • गुफाएँ एलोरा की समकालीन हैं और इनकी प्रतिमाओ में शरीर का पतलापन नितांत गहरे और हल्‍के प्रभावों के साथ दृष्‍टि-गोचर होता हैं।
  • अन्य गुफा स्थल बाग, इंदौर (मध्य प्रदेश) के पास स्थित है। 

पूर्वी भारत में गुफा परंपरा

  • आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र (एलुरु जिले के गुंटीपल्ली) और ओडिशा में बौद्ध गुफाओं की खुदाई की गई है।
  • गुंटापल्ले चैत्य गुफा (दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व) गोलाकार हॉल में एक स्तूप के साथ गोलाकार और प्रवेश द्वार पर नक्काशीदार चैत्य मेहराब है।
  • अधिक छोटी होने के बावजद मुख्यविहार गुफ़ाएँ बाहर से चैत्य तोरणों से सजी हैं। ये गुफ़ाएँ आयताकार हैं जिनकी छतें मेहराबदार हैं, जो बिना बड़े कक्ष के एक मजिंली या दो मजिंली है
  • रामपरेमपल्लम एक अन्य महत्वपर्णूर्ण स्थल है, जहाँ पहाड़ी के ऊपर चट्टान को काटकर एक छोटे स्तू‍प का निर्माण हुआ हैं।
  • विशाखापट्टनम (आंध्र प्रदेश) के समीप अनकापल्ली में गुफाओं का निर्माण हुआ और चौथी-पाँचवीं शताब्दी ईसवी में पहाड़ी के ऊपर चट्टानें काटकर एक बड़ा-सा स्तूप बनाया गया। यह एक ऐसा विशिष्ट स्थल है जहाँ चट्टान काटकर देश के सबसे बड़े स्तूप का निर्माण हुआ|

.

Read More Articles of History or Art & Culture

Follow on Youtube Channel Score Better

.

Kindly Provide Your Positive Feedback, Thank You