history-art-and-culture

The period roughly between the 3rd century B.C. and the 3rd century A.D. in south India (the area lying to the south of the rivers Krishna and Tungabhadra) is known as the Sangam Era.
It has been named after the Sangam academies held during that period that flourished under the royal patronage of the Pandya kings of Madurai.
At the sangams eminent scholars assembled and functioned as the board of censors, and the choicest literature was rendered in the form of anthologies.

These literary works were the earliest specimens of Dravidian literature.

  • According to the Tamil legends, there were three Sangams (Academy of Tamil poets) held in ancient South India popularly called Muchchangam.
    • The First Sangam is believed to be held at Madurai, attended by gods and legendary sages. No literary work of this Sangam is available.
    • The second Sangam was held at Kapadapuram, only Tolkappiyam survives from this.
    • The Third Sangam was also held at Madurai. A few of these Tamil literary works have survived and are useful sources to reconstruct the history of the Sangam period.


Megalith’s graves were encircled by big pieces of stone. They also contained pottery and iron objects buried with the corpse. They are found in the upland regions of the Peninsula with a concentration in Eastern Andhra Pradesh and Tamil Nadu

Sangam Era State formation and the rise of civilization

The megalithic people started to reclaim the fertile deltaic lands. The route to the south is known as Dakshinapatha, and it became economically significant.
Megasthenes knew about Pandyas while Ashokan inscriptions mention Cholas, Pandyas, Keralaputras, and Satyaputras
Flourishing trade with the Roman empire led to the formation of these three states, i.e., the Cheras, Cholas, and Pandyas.

Sangam Era

The Sangam period is a period in Tamil Nadu’s history that lasted from the third century BC to the third century AD. It is named after the famous Sangam academies of poets and scholars centered in the city of Madurai.

Sangam Era

Three early kingdoms of the Sangam Era

KingdomCapitalPortEmblemFamous Ruler
CherasVanji – Modern KeralaMuzuri and TondiBowSenguttuvan
CholasUraiyur and PuharKaveripatinam/Puhar They had an efficient NavyTigerKarikalan
PandyasMaduraiKorkai for Pearl FishingFishNedunjeliyan

Political History of the Sangam Period

South India, during the Sangam Age, was ruled by three dynasties: the Cheras, Cholas, and Pandyas. The main source of data about these kingdoms is traced to the literary references of the Sangam Period.

Cheras

  • The Cheras controlled the central and northern parts of Kerala and the Kongu region of Tamil Nadu.
  • Vanji was their capital and therefore the ports of the West Coast, Musiri and Tondi, were under their control.
  • The emblem of Cheras was “bow and arrow”.
  • The Pugalur inscription of the first century AD has regard to three generations of Chera rulers.
  • The Cheras owed its importance to trade with the Romans. They also built a temple of Augustus there.
  • The greatest ruler of Cheras was Senguttuvan, the Red Chera or the great Chera, who belonged to the 2nd century A.D.
  • His military achievements are chronicled in epic Silapathikaram, with details about his expedition to the Himalayas where he defeated many north Indian rulers.
  • Senguttuvan introduced the Pattini cult or the worship of Kannagi because of the ideal wife in Tamil Nadu.
  • He was the primary to send an embassy to China from South India.

Cholas

  • The Cholas controlled the central and northern parts of Tamil Nadu.
  • Their core area of rule was the Kaveri delta, later referred to as Cholamandalam.
  • Their capital was Uraiyur (near Tiruchirapalli town) and Puhar or Kaviripattinam was an alternate royal residence and chief port town.
  • Tiger was their emblem.
  • The Cholas also maintained an efficient navy.
  • King Karikala was a famous king of the Sangam Cholas.
  • Pattinappalai portrays his life and military conquests.
  • Many Sangam poems mention the Battle of Venni where he defeated the confederacy of Cheras, Pandyas, and eleven minor chieftains.
  • Karikala’s military achievements made him the overlord of the entire Tamil region at that point.
  • Trade and commerce flourished during his reign.
  • He founded the port city of Puhar (identical to Kaveripattinam) and constructed 160 km of embankment along the Kaveri River.

Pandyas

  • The Pandyas ruled from Madurai.
  • Korkai was their main port, located near the confluence of Thampraparani with the Bay of Bengal. It was famous for fishery and chank diving.
  • Their emblem was the “Fish”.
  • They patronized the Tamil Sangams and facilitated the compilation of the Sangam poems.
  • Rulers kept a regular army.
  • Trade was prosperous and their pearls were famous.
  • Sati, caste, and idol worship were common. Widows were treated badly.
  • They adopted the Vedic religion of sacrifice and patronized Brahmin priests.
  • Their power declined with the invasion of a tribe called the Kalabhras.
  • After the Sangam Age, this dynasty lost its significance for more than a century, only to rise once again at the end of the 6th century.

These kingdoms had profitable trade relations with the Roman Empire. They produced pepper, ivory, pearls, precious stones, muslin, silk, cotton, etc., which led to prosperity in their region.

Rise of social classes

  • Enadi – captains of the army
  • Vellalas – Rich peasants
  • Arasar – ruling class
  • Kadaisiyar – the lowest class
  • Pariyars – agricultural labourers

Four castes mentioned in Tolkappiyam

  • Arasar – Ruling class
  • Anthanar – Brahmanas
  • Vanigar – People involved in Trade and Commerce
  • Vellalar – Labourers

Five-fold division of land

LandType of LandChief DeityChief Occupation
KurunjiHilly tractsMuruganHunting and honey collection
MullaiPastoralMayonCattle rearing and dealing with dairy products
MarudhamAgriculturalIndiraAgricultural
NeidhalCoastalVarunanFishing and salt manufacturing
PalaiDesertKorravaiRobbery

Sangam Era Administration

  • Avai – the imperial court
  • Kodimaram – tutelary tree of every ruler
  • Panchmahasabha
    1. Amaichar – ministers
    2. Senatipathiar – Army chief
    3. Otrar – Spy
    4. Thoodar – Envoy
    5. Purohitar – Priest
  • Kingdom’s division
    1. Mandalam/Nadu – Province
    2. Ur–town
    3. Perur – Big village
    4. Sitrur – Small village

Sangam Era Councils

SangamPlaceChairmanSurviving Texts
1st SangamThen-MaduraiAgasthiyarNil
2nd SangamKapadapuramAgasthiyar and TolkappiyarTolkappiyam
3rd SangamMaduraiFounder – MudathirumaranNakkirar Ettutogai, Pattu Pattu (10 idylls)

Tamil language and Sangam Era literature

  • Narrative – Ettutogai and Pattupattu which are called Melkankakku – 18 Major works. They are divided into Agam (love) and Puram (Valour)
  • Didactive – Pathinenkilkanakku – 18 minor works. They deal with Ethics and Morals.
  • Thirukkural ­– Written by Thiruvalluvar is a treatise covering various aspects of life.
  • Tolkappiyam by Tolkappiyar is the earliest of Tamil literature. It is a work on Tamil Grammar but also provides information on the Political and Social conditions of the Sangam period

Epics

  • Silapadhikaram by Elango Adigal
  • Manimegalai by Sitthalai Sathanar
  • Valayapathi
  • Kundalagesi
  • Sivaga Sinthamani 

.

संगम काल
(Sangam Era)

दक्षिण भारत (कृष्णा एवं तुंगभद्रा नदी के दक्षिण में स्थित क्षेत्र) में लगभग तीन सौ ईसा पूर्व से तीन सौ ईस्वी के बीच की अवधि को संगम काल के नाम से जाना जाता है।

  • संगम तमिल कवियों का एक संगम या सम्मलेन था, जो संभवतः किन्हीं प्रमुखों या राजाओं के संरक्षण में ही आयोजित होता था।
  • आठवीं सदी ई. में तीन संगमों का वर्णन मिलता है। पाण्ड्य राजाओं द्वारा इन संगमों को शाही संरक्षण प्रदान किया गया।
  • ये साहित्यिक रचनाएँ द्रविड़ साहित्य के शुरुआती नमूने थे।
  • तमिल किंवदंतियों के अनुसार, प्राचीन दक्षिण भारत में तीन संगमों (तमिल कवियों का समागम) का आयोजन किया गया था, जिसे मुच्चंगम (Muchchangam) कहा जाता था।
    • माना जाता है कि प्रथम संगम मदुरै में आयोजित किया गया था। इस संगम में देवता और महान संत शामिल थे। इस संगम का कोई साहित्यिक ग्रंथ उपलब्ध नहीं है।
    • दूसरा संगम कपाटपुरम् में आयोजित किया गया था, इस संगम का एकमात्र तमिल व्याकरण ग्रंथ तोलकाप्पियम् ही उपलब्ध है।
    • तीसरा संगम भी मदुरै में हुआ था। इस संगम के अधिकांश ग्रंथ नष्ट हो गए थे। इनमें से कुछ सामग्री समूह ग्रंथों या महाकाव्यों के रूप में उपलब्ध है।

मेगालिथ कब्रें पत्थरों के बड़े बड़े टुकड़ों से घिरी हुई थी। उनमे शव के साथ दफ़न बर्तन और लोहे की वस्तुओं भी प्राप्त हुई। वे पूर्वी आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु समेत प्रायद्वीप के ऊपरी क्षेत्रों में पाए जाती हैं।

संगम काल के राज्यों का गठन और सभ्यता का उदय

मेगालिथिक लोगों ने डेल्टा के उपजाऊ क्षेत्रों की भूमि को पुनः प्राप्त करना शुरू कर दिया। दक्षिण को जाने वाले मार्ग को दक्षिणापथ कहा जाता है जो कि आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण बन गया था।

मेगस्थनीज, पंड्या के बारे में जानता था जबकि अशोक के शिलालेखों में चोल, पंड्या, केरलपुत्र और सत्यपुत्र का उल्लेख मिलता है।

रोमन साम्राज्य के साथ व्यापार के प्रचार-प्रसार के फलस्वरुप तीन राज्यों अर्थात् चेरस, चोल और पंड्या का गठन हुआ।

संगम काल 
(Sangam Era)

तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व से तीसरी शताब्दी तक के प्राचीन तमिलनाडु के काल को संगम काल कहते है। यह नाम मदुरई शहर में केंद्रित कवियों और विद्वानों की प्रसिद्ध संगम अकादमी के नाम पर है।

Sangam Era

तीन प्रारभिक साम्राज्‍य

राज्यराजधानीपोर्टराज्य चिह्नप्रसिद्ध शासक
चेरा राज्यवंजी- आधुनिक केरलमुजुरी एवं टोंडीधनुषसेनगुत्वन
चोल राज्यउरैयुर तथा पुहरकावेरीपट्टिनम/पुहर इनके पास पर्याप्त नौ सेना थी।बाघकरिकालन
पंड्या राज्यमदुरईकोरकईमछलीनेदुनजहेरियन

संगम काल (Sangam Age) का राजनीतिक इतिहास

संगम युग के दौरान दक्षिण भारत पर तीन राजवंशों- चेरों, चोलों और पाण्ड्यों का शासन था। इन राज्यों के बारे में जानकारी संगम काल के साहित्यिक संदर्भों से प्राप्त की जा सकती है।

चेर

  • चेरों ने आधुनिक राज्य केरल के मध्य और उत्तरी हिस्सों तथा तमिलनाडु के कोंगु क्षेत्र को नियंत्रित किया।
  • उनकी राजधानी वांजि थी तथा पश्चिमी तट, मुसिरी और टोंडी के बंदरगाह उनके नियंत्रण में थे।
  • चेरों का प्रतीक चिह्न “धनुष-बाण” था।
  • ईसा की पहली शताब्दी के पुगलुर शिलालेख से चेर शासकों की तीन पीढ़ियों की जानकारी मिलती है।
  • चेर राजा रोमन साम्राज्य के साथ व्यापार से लाभ प्राप्त करते थे। कहा जाता है कि उन्होंने ऑगस्टस का एक मंदिर भी बनवाया गया था।
  • चेरों के सबसे महान राजा शेनगुटटवन/सेंगुत्तुवन थे जिन्हें लाल या अच्छे चेर भी कहा जाता था।
  • शेनगुटटवन/सेंगुत्तुवन ने चेर राज्य में पत्तिनी (पत्नी) पूजा प्रारंभ की। इसे कण्णगी पूजा भी कहा गया।
  • वह दक्षिण भारत से चीन में दूत भेजने वाले पहले व्यक्ति थे।

चोल

  • चोलों ने तमिलनाडु के मध्य और उत्तरी भागों को नियंत्रित किया।
  • उनके शासन का मुख्य क्षेत्र कावेरी डेल्टा था, जिसे बाद में चोलमंडलम के नाम से जाना जाता था।
  • उनकी राजधानी उरैयूर (तिरुचिरापल्ली शहर के पास) थी। बाद में करिकाल ने कावेरीपत्तनम या पुहार नगर की स्थापना कर उसे अपनी राजधानी बनाया।
  • इनका प्रतीक चिह्न बाघ था।
  • चोलों के पास एक कुशल नौसेना भी थी।
  • चोल राजाओं में राजा करिकाल सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण शासक था।
    • पत्तिनप्पालै में उनके जीवन और सैन्य अधिग्रहण को दर्शाया गया है।
    • विभिन्न संगम साहित्य की कविताओं में वेण्णि के युद्ध का उल्लेख मिलता है इस युद्ध में करिकाल ने पाण्ड्य तथा चेर सहित ग्यारह राजाओं को पराजित किया।
    • करिकाल की सैन्य उपलब्धियों ने उन्हें पूरे तमिल क्षेत्र का अधिपति बना दिया।
    • करिकाल ने अपने शासनकाल में व्यापार और वाणिज्य क्षेत्र को संपन्न बनाया।
    • करिकाल ने पुहार या कावेरीपत्तनम शहर की स्थापना की और अपनी राजधानी उरैपुर से कावेरीपत्तनम में स्थानांतरित की। इसके अतिरिक्त कावेरी नदी के किनारे 160 किमी. लंबा बांध बनवाया।

पाण्ड्य

  • पाण्ड्यों ने मदुरै से शासन किया।
  • पाण्ड्य राज्य भारतीय प्रायद्वीप के सुदूर दक्षिण और दक्षिण-पूर्वी भाग में था।
  • कोरकई इनकी प्रारंभिक राजधानी थी जो बंगाल की खाड़ी के साथ थम्परपराणी के संगम के पास स्थित थी।
  • पाण्ड्य वंश का प्रतीक चिह्न ‘मछली’ थी।
  • उन्होंने तमिल संगमों का संरक्षण किया और संगम कविताओं के संकलन की सुविधा प्रदान की।
  • शासकों ने एक नियमित सेना बनाए रखी।
  • संगम साहित्य के अनुसार, पाण्ड्य राज्य धनी और समृद्ध था।
  • पाण्ड्यों का पहला उल्लेख मेगास्थनीज ने किया है, उन्होंने इस राज्य को मोतियों के लिये प्रसिद्ध बताया था।
  • समाज में विधवाओं के साथ बुरा बर्ताव किया जाता था।
  • इस राज्य में ब्राम्हणों का काफी प्रभाव था तथा ईसा के शुरूआती शताब्दियों में पाण्ड्य रजा वैदिक यज्ञ करते थे।
  • कलभ्रस (Kalabhras) नामक जनजाति के आक्रमण के साथ उनकी शक्ति का क्षय हुआ।
  • नल्लिवकोडन संगम युग का अंतिम ज्ञात पाण्ड्य शासक था।

इन साम्राज्यों का रोमन साम्राज्य के साथ लाभदायक व्यापार था। ये काली मिर्च, आइवरी, मोती, कीमती पत्थरों, मस्लिन, सिल्क, कॉटन आदि का उत्पादन करते थे जो कि इनके क्षेत्र में समृद्धि लाएं।

समाजिक वर्गों का उदय

  • एनाडी – सेना के कप्तान
  • वेल्लालस – धनी कृषक
  • अरासर – शासक वर्ग
  • कदाईसियर – निम्न वर्ग
  • पेरियर – कृषि श्रमिक

तोल्काप्पियम में वर्णित चार जातियां

  • अरासर – शासक वर्ग
  • अंथनार – ब्राह्मण
  • वणिगर – व्यवसाय में सम्मिलित व्‍यक्ति
  • वेल्लालर – श्रमिक

भूमि का पांच सतहों में विभाजन

भू-भाग़भू-भाग़ के प्रकारमुख्य देवतामुख्य पेशा
कुरुन्जीपहाड़ी इलाकेमुरुगनशिकार व शहद संग्रहण
मुल्लईदेहातीमायोनपशु प्रजनन और दुग्ध उत्पाद
मरुधामकृषिइंदिराकृषि
नीधलतटीयवरुणनमछली पकड़ना और नमक तैयार करना
पलईरेगिस्तानकोरावाईलूट-पाट

संगम काल का प्रशासन

  • अवई – शाही राज-दरबार
  • कोडीमरम – प्रत्येक शासक का संरक्षक वृक्ष
  • पंचमहासभा
    1. अमईचर – मंत्री
    2. सेनापति – सेना प्रमुख
    3. ओटरार – गुप्‍त-चर
    4. थुदार – राज-दूत
    5. पुरोहित – पुजारी
  • राज्यों का विभाजन
    1. मंडलम / नाडू – प्रांत
    2. उर – शहर
    3. पेरुर – बड़े गांव
    4. सितरुर- छोटे गांव

संगम काल (Sangam Age)

संगमस्थानअध्यक्षप्रासंगिक ग्रंथ
प्रथम संगममदुरईअगस्‍थियरनील
द्वितीय संगमकपादपुरम अगस्थियर और तोलकापीयारतोलकापीयम
तृतीय संगममदुरईसंस्थापक – मुदाथिरुमरन नक्कीरारइट्टुटोगई, पट्टू पट्टू (10 इडल्‍स)

तमिल भाषा और संगम साहित्य

कथा – एट्टुगोई और पट्टूपट्टू को मेल्कांकक्कु कहा जाता है जिसमे 18 मुख्य कृति शामिल है। वे आगम (प्रेम) और पुरम (वीरता) में विभाजित हैं।

शिक्षण – पैथिनेंकिल्कानाक्‍कु – 18 छोटे कृतियां शामिल है। वे नीतिशास्र और आचार विचार से सम्बंधित है।

थिरुक्कुरल – यह तिरुवल्लुवर द्वारा लिखा गया एक आलेख है जो जीवन के विभिन्न पहलुओं पर आधारित है।

टोलकापीयर द्वारा रचित टोलकापीयम एक आरंभिक तमिल साहित्य है। यह तमिल व्याकरण पर प्रकाश डालने के साथ-साथ संगम काल की राजनीतिक और सामाजिक स्थितियों के बारे में जानकारी भी प्रदान करता है

संगम काल के महाकाव्य

  1. एलंगो आदिगल द्वारा सिलापाधिकरम
  2. सिथलाई सतनर द्वारा मैणीमेगालाई
  3. वलयापथ
  4. कुण्डालगेसी
  5. सिवग सिंथामनी 

.

Read More Articles on History or Art & Culture

Follow on Youtube Channel Score Better

Join Us on Telegram For More Update

.

%d bloggers like this: