Rare Earth Minerals

हाल ही में एक स्टडीज में कहा गया है कि चीन और अमेरिका के बीच दुर्लभ मृदा तत्त्वों (Rare Earth Minerals -REE) को लेकर तनाव बढ़ सकता है । वाशिंगटन स्थित सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज में कहा गया है कि चीन इन तत्वों के निर्यात में कमी करने की कोशिश कर सकता है । स्वच्छ ऊर्जा से जुड़े खनिजों की मांग में अपेक्षित वृद्धि ने अमेरिका के साथ यूरोप पर भी अधिक दबाव डाल दिया है ।

The Rare Earth Minerals are collectively a set of 17 chemical elements which include 15 lanthanides plus scandium and yttrium. All these seventeen elements possess similar chemical properties. In terms of their overall availability and abundance in the Earth’s crust, the rare earth elements are not particularly rare for which they have been defined. The most abundant of them is Cerium (Ce) and Thulium (Tm) hence these are called the rarest Rare Earth Minerals. Promethium (Pm) is virtually absent, since in the radioactive terms within it has a short lifetime. These Rare earth (RE) are actually found quite abundantly in the Earth’s crust, but these are termed ‘rare’ because they occur in very very fewer quantities and they also possess a diffused state that makes it most difficult as well as very expensive to Finding, extract, and process.

अमेरिका एवं यूरोपीय संघ की चीन पर निर्भरता

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, वर्ष 2019 में, अमेरिका ने चीन से दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का लगभग 80% आयात किया है। इसके अतिरिक्त, यूरोपीय संघ भी चीन से अपनी आपूर्ति का 98% दुर्लभ मृदा तत्व आयात करता है ।

दुर्लभ मृदा तत्त्व (Rare Earth Minerals)

दुर्लभ मृदा तत्त्व, 17 दुर्लभ धातु तत्त्वों का समूह है जो पृथ्वी की ऊपरी सतह (क्रस्ट) में पाए जाते हैं । इनमें आवर्त सारणी के 15 लैंथेनाइड और स्कैंडियम और यट्रियम शामिल हैं।

प्रमुख 15 दुर्लभ मृदा तत्व हैं- लैंथेनम (La), सेरियम (Ce), प्रेजोडियम (Pr), नियोडिमियम (Nd), प्रोमेथियम (Pm), समैरियम (Sm), यूरोपियम (Eu), गैडोलिनियम (Gd), टरबियम(Tb), डिस्प्रोसियम (Dy), होल्मियम (Ho), एर्बियम (Er), थुलियम(Tm), यटेरबियम(Yb), और लुटेटियम (Lu)।

What are rare earths and how important are they? Rare Earth Minerals

प्रयोग

इनका प्रयोग पवन टरबाइन, इलेक्ट्रिक वाहन, लड़ाकू विमान और हथियार प्रणालियों जैसे बिजली के उपकरणों को बनाने में किया जाता है।

इनके अद्वितीय चुंबकीय, संदीप्तिशील और विद्युत-रासायनिक गुणों के कारण स्मार्टफोन, इलेक्ट्रिक कार, कैमरा लेंस, एक्स-रे स्कैनर, विंड टर्बाइन और कंप्यूटर हार्ड ड्राइव जैसे उत्पादों के उत्पादन में आवश्यक रूप से उपयोग किया जाता हैं।

दुर्लभ मृदा तत्व अनुप्रयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए आवश्यक कच्चे माल हैं, यथा- धातु विज्ञान (धातु शोधन और मिश्र धातु), मोटर वाहन और पेट्रो-रसायन उद्योग में उत्प्रेरक, कांच/चीनी मिट्टी की चीज़ें, फास्फोरस (LED, कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप, फ्लैट पैनल डिस्प्ले), पराबैंगनी किरण, रिचार्जेबल सॉलिड स्टेट बैटरी (Ni-MH), फाइबर ऑप्टिक्स आदि|

Defense Uses of Rare Earth Elements

LanthanumNight-vision goggles
Neodymiumlaser range-finders, guidance systems, communications
Europiumfluorescents and phosphors in lamps and monitors
Erbiumamplifiers in fiber-optic data transmission
Samariumpermanent magnets that are stable at high temperatures
Samariumprecision-guided weapons
Samarium“white noise” production in stealth technology

.

Read More Article of Science & Technology

Follow on Youtube – Score Better

Join Us Telegram Page Click Here

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *