शहीद दिवस (Shaheed Diwas) या सर्वोदय दिवस पर, हम राष्ट्र की सेवा में अपना जीवन देने वालों को अपना सम्मान और श्रद्धांजलि देते हैं, मुख्य रूप से देश की आजादी के लिए लड़ने वालों के लिए।

“वे मुझे मार सकते हैं, लेकिन वे मेरे विचारों को नहीं मार सकते। वे मेरे शरीर को कुचल सकते हैं, मेरी आत्मा को नहीं कुचलने पाएगे।“
भगत सिंह

Shaheed Diwas is observed twice, once on January 30 and once on March 23.
On January 30, Mahatma Gandhi was assassinated, and on March 23, Fearless Bhagat Singh, Shivaram Rajguru, and Sukhdev Thapar were hanged to death by the British Government.

It is believed that Bhagat Singh thought differently, and had an ideology that was dissimilar to the Mahatma. But the aim of both freedom fighters was the same, the Independence of India.

Shaheed Diwas (23 March) | शहीद दिवस

Timeline of Events 

  • The root cause of the incident was the protests of the Simon Commission. Lala Lajpat Rai, who was also known as “Punjab Kesari“, was leading a protest against Simon Commission. When the orders for lathi charge was issued by British authorities.During which, he got injured and never recovered fully from the injuries and breathed his last on November 17, 1928.
  • At that time Bhagat Singh took the vow to take the revenge of Lala Lajpat rai’s death and with the help of other revolutionaries including Shivram Rajguru, Sukhdev Thapar and Chandrashekhar Azad. They planned for the assassination of the British officer who gave the orders for the lathi charge on peaceful protesters.
  • They mistook John Saunders for Superintendent James Scott(the brain behind the lathi charge) and killed him.  
  • In April 1929, Bhagat Singh and his associate Batukeshwar Dutt exploded two bombs inside the Central Legislative Assembly(CLA), Delhi to protest against the Trade Dispute Act and the Public Safety Bill
  • The bomb was not aimed to kill anyone but to “Make the Deaf Hear”. Bhagat Singh had the chance to escape after the attack, but he and Batukeshwar continued shouting ‘Inquilab Zindabad‘. This led to Bhagat Singh’s arrest.
  • Sukhdev was arrested after the bomb factory was located by the police in Lahore and Saharanpur.
  • Although Sukhdev and Bhagat Singh were arrested in different cases, the police connected the incidents and charged Singh, Sukhdev, and Rajguru for killing Saunders (British Officer) and the Court sentenced them to death. This case is known as the Lahore Conspiracy Case.
Shaheed Diwas (23 March) | शहीद दिवस
  • Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev were scheduled to be hanged on March 24 but were hanged a day before on March 23 at 7:30 pm.
  • They were hanged to death by the British for the assassination of British Police Officer John Saunders. 

About the Revolutionaries

Bhagat Singh:-

  • He was born on September 27, 1907, Lyallpur, western Punjab of Undivided India,[now in Pakistan]. He was the second son of Kishan Singh and Vidya Vati.
  • He completed his schooling and graduation from Dayanand Anglo Vedic High School, and then National College, both located in Lahore.
  • Bhagat Singh also worked as a writer and editor in Amritsar for Punjabi- and Urdu-language newspapers espousing Marxist theories.
  • In 1926, Bhagat Singh founded the ‘Naujavan Bharat Sabha (Youth Society of India) and joined the Hindustan Republican Association (later known as Hindustan Socialist Republican Association), where he met several prominent revolutionaries.
  • Later he was hanged to death for the assassination of a British Officer.
  • Jawahar Lal Nehru wrote about him, “Bhagat Singh did not become popular because of his act of terrorism but because he seemed to vindicate, for the moment, the honour of Lala Lajpat Rai, and through him of the nation. He became a symbol; the act was forgotten, the symbol remained, and within a few months each town and village of the Punjab, and to a lesser extent in the rest of northern India, resounded with his name.”.

Shivaram Rajguru:-

  • HE was born on August 24 1908, Rajgurunagar(Khed), Pune, Maharashtra.Khed is located at the banks of river Baheema.
  • His body was cremated at Hussainiwala on the banks of the River Sutlej in Ferozepur district of Punjab.
  • He was a non-believer of Gandhi’s method non-violent civil disobedience to obtain Independence.
  • He was an admirer of Chhatrapati Shivaji Maharaj and a big fan of his guerrilla war tactics.

Shukhdev Thapar:-

  • He was born on May 15, 1907, in the Chaura Bazar area called Nau Ghara (nine houses), Ludhiana. 
  • The name of his father was Sh. Ram Lal & Mother was Smt. Ralli Devi. Sukhdev was the organiser of the revolutionary party in Punjab.
  • He was only 24 years old when he became a martyr for Mother India; however, he will always be remembered for his courage, patriotism and sacrifice of his life for India’s Independence.

Bring out the hero in you, and take a moment to remember those who fought tooth and nail so you can live freely in your country. On this day, you must also show gratitude for those who continue to defend us and keep our borders safe.

.

शहीद दिवस
(Shaheed Diwas 23 March)

शहीद दिवस (Shaheed Diwas) दो बार मनाया जाता है, एक बार 30 जनवरी को और एक बार 23 मार्च को।

30 जनवरी को महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी और 23 मार्च को निडर भगत सिंहशिवराम राजगुरु और सुखदेव थापर को ब्रिटिश सरकार ने फांसी पर लटकाया था

ऐसा माना जाता है कि भगत सिंह अलग तरह से सोचते थे, और उनकी विचारधारा महात्मा से भिन्न थी। लेकिन दोनों स्वतंत्रता सेनानियों का उद्देश्य एक ही था, भारत की स्वतंत्रता।

घटनाक्रम की समयरेखा

  • घटना की जड़ साइमन आयोग के विरोध से शुरू होती है। “पंजाब केसरी” के नाम से मशहूर लाला लाजपत राय साइमन कमीशन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे थे। जब ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा लाठीचार्ज के आदेश जारी किए गए थे। जिस दौरान वह घायल हो गए और कभी भी चोटों से पूरी तरह उबर नहीं पाए जिसके कारण 17 नवंबर, 1928 को उन्होंने अंतिम सांस ली।
  • उस समय भगत सिंह ने लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए मन्नत ली और शिवराम राजगुरु, सुखदेव थापर और चंद्रशेखर आजाद सहित अन्य क्रांतिकारियों की मदद से उन्होंने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज के आदेश देने वाले ब्रिटिश अधिकारी की हत्या की योजना बनाई।
Shaheed Diwas (23 March) | शहीद दिवस
  • अप्रैल 1929 में भगत सिंह और उनके सहयोगी बटुकेश्वर दत्त ने व्यापार विवाद अधिनियम और सार्वजनिक सुरक्षा विधेयक के विरोध में दिल्ली के केंद्रीय विधान सभा (CLA) के अंदर 2 बम विस्फोट किए।
  • बम किसी को मारने के लिए नहीं बल्कि “बहरो को सुनाने” के उद्देश्य से था। हमले के बाद भगत सिंह के पास भागने का मौका था लेकिन वह और बटुकेश्वर ‘ इनकलाब जिंदाबाद‘ के नारे लगाते रहे। इसी के चलते भगत सिंह की गिरफ्तारी भी हुई।
  • सुखदेव को पुलिस ने लाहौर और सहारनपुर में स्थित बम फैक्ट्री से ढूंढने के बाद गिरफ्तार किया था।
  • हालांकि सुखदेव और भगत सिंह को अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन पुलिस ने मामलों को जोड़ा और आरोपी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को सॉंडर्स (ब्रिटिश अफसर) की हत्या के लिए, अदालत ने उन्हें मौत की सजा सुनाई। यह मामला लाहौर षड्यंत्र मामले के नाम से जाना जाता है।
  • भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 24 मार्च को फांसी दी जानी तय हुई थी लेकिन 23 मार्च को शाम साढ़े सात बजे एक दिन पहले ही फांसी पर लटका दिया गया था।
  • ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जॉन सॉन्डर्स की हत्या के आरोप में उन्हें अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया। उन्होंने सुपरिंटेंडेंट जॉन को गलती से जेम्स स्कॉट समझ लिया था, जो लाठीचार्ज वाली घटना के लिए जिम्मेदार था।

हमारे नायकों के बारे में

भगत सिंह:-

  • उनका जन्म 27 सितंबर, 1907, लायलपुर, अविभाजित भारत के पश्चिमी पंजाब, [अब पाकिस्तान में] में हुआ था। वह किशन सिंह और विद्या वती के दूसरे बेटे थे।
  • उन्होंने दयानंद एंग्लो वैदिक हाई स्कूल और फिर नेशनल कॉलेज, दोनों लाहौर में स्थित है से अपनी स्कूली शिक्षा और स्नातक पूरा किया।
  • 1926 में, भगत सिंह ने नौजवान भारत सभा (यूथ सोसाइटी ऑफ इंडिया) की स्थापना की और हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (जिसे बाद में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के नाम से जाना जाता है) में शामिल हुए, जहाँ उन्होंने कई प्रमुख क्रांतिकारियों से मुलाकात की।
  • भगत सिंह ने अमृतसर में पंजाबी और उर्दू भाषा के अखबारों में मार्क्सवादी सिद्धांतों की वकालत करने वाले लेखक और संपादक के रूप में भी काम किया।
  • बाद में उन्हें ब्रिटिश सैनिकों की हत्या के लिए फांसी की सजा दी गई।
  • जवाहर लाल नेहरू ने उनके बारे में लिखा, “भगत सिंह अपने आतंकवाद के कार्य के कारण लोकप्रिय नहीं हुएबल्कि इसलिए कि वे पल-पल के लिएलाला लाजपत राय के सम्मान में और उनके द्वारा राष्ट्र के लिए “वंदना” करने लगे।“

शिवराम राजगुरु: –

  • इनका का जन्म 24 अगस्त 1908 में, राजगुरुनगर (खेड़), पुणे, महाराष्ट्र में हुआ था। खेड़ बहेमा नदी के तट पर स्थित है।
  • पंजाब के फिरोजपुर जिले में सतलज नदी के तट पर हुसैनीवाला में उनके शरीर का अंतिम संस्कार किया गया।
  • वे स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए गांधी के अहिंसक सविनय अवज्ञा के तरीके के गैर-विरोधी थे।
  • वे छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रशंसक और उनकी गुरिल्ला युद्ध की रणनीति के बड़े प्रशंसक थे।

सुखदेव थापर: –

  • इनका जन्म 15 मई 1907 को चौरा बाज़ार क्षेत्र में हुआ, जो नौ घर, लुधियाना कहलाता है।
  • उनके पिता का नाम श्री राम लाल और माँ का नाम श्रीमती रल्ली देवी था। सुखदेव पंजाब में क्रांतिकारी पार्टी के आयोजक थे।
  • वह केवल 24 वर्ष के थे, जब वह भारत माता के लिए शहीद हो गए, हालांकि, उन्हें भारत की स्वतंत्रता के लिए उनके साहस, देशभक्ति और उनके जीवन के बलिदान के लिए हमेशा याद किया जाएगा।

अपने अंदर के नायक, हीरो को बाहर लाओ, और एक क्षण उन लोगों को याद करने के लिए भी निकालो जो दिलो जान से लडे ताकि हम अपने देश में स्वतंत्र रूप से रह सकें। इस दिन, हम सबको उन लोगों के लिए भी आभार व्यक्त करना चाहिए जो हमारी रक्षा करते हैं और हमारी सीमाओं को सुरक्षित रखते हैं।

.

Read More Articles of History or Art & Culture

Follow on Youtube Channel Score Better

.

Kindly Provide Your Positive Feedback, Thank You