Modern History of Rajasthan (1707-1964)

Modern History of Rajasthan Period, 1707 – 1964, Rajasthan had never been united politically until its domination by Mughal Emperor – Akbar. Akbar created a unified province of Rajasthan. Mughal power started to decline after 1707. The political disintegration of Rajasthan was caused by the dismemberment of the Mughal Empire. The Marathas penetrated Rajasthan upon the decline of the Mughal Empire. In 1755 they occupied Ajmer. The beginning of the 19th Century was marked by the onslaught of the Pindaris.

  • There were many small princely states in Modern History of Rajasthan from 1707 to 1947.
  • Some important states were Jat ruler of Bharatpur, Kachhwaha ruler of Jaipur, Kachhwaha ruler of Alwar, Shekhawati Ruler, Mewar, Kota, Bundi, etc.
  • Churaman of Bharatpur built Fort of Thun.
  • In 1725, Badan Singh, brother of Churaman built Jal Mahal of Deeg, Kumher, and Vair fort.
  • Maharaja Jawahar Singh Constructed The Lahore Fort.
  • The Matsya Union was the first state to be formed with the unification of Alwar, Bharatpur, Dholpur, and Karauli. Later they joined the Indian Union.
  • Mirza Raja Sawai Singh holds the title of Sawai, Saramadi Raja-e-Hind, Raj Rajeshwar, and Shri Rajadhiraja. He Built Jantar Mantar in Delhi, Mathura, Ujjain, Varanasi, and Jaipur. In 1727, He laid the foundation of Jaipur which was designed by Vidyadhar Bhattacharya.

Revolt of Rajasthan 1857

  • During 1857 revolt George Lawrence was the Agent to Governor-General (AGG).
  • On 28 May, Naseerabad was the first place where the revolt began.
  • Kushal Singh Champavat led the revolt in Erinpura.
  • There were six cantonments in Rajasthan Naseerabad, Devali, Erinpura, Kota, Kherwara and Beawar.
  • On 21st August, revolt reached to Jodhpur region.
  • Kota revolt was headed by Mehrab Khan and Jadaya Kayashion. They killed Major Barton, his two sons and a doctor on 15th October 1857 for which they were hanged on 3rd March 1858.
    Reason for the failure of revolt in Rajasthan: Lack of unity and organization, no support from rulers, no definite leadership, no ammunition support, etc.,
  • Maharaja Jaswant Singh I was the ruler of Bharatpur during the revolt.
  • Maharaja Ram Singh II was the ruler of Jaipur during the revolt.
  • Maharaja Thakat Singh was the ruler of Jodhpur during the revolt.
  • Maharao Ram Singh was the ruler of Kota during the revolt.
  • Maharao Swaroop Singh was the ruler of Udaipur during the revolt.

Some famous freedom fighters of this revolt

  • Lala Jaydayal from Kota
  • Mehrab Singh from Kota
  • Thakur Kushal Singh from Jodhpur
  • Suryamal Misson from Bundi Darbar as a poet.
  • Rawat Keshri Singh from Mewar
  • Rawat Jodhsingh from Mewar
  • Tarchan Patel from Tonk

Peasant & Tribal Movement

Peasant & Tribal movement reason: Signing of treaties of Rajas with Britishers for getting relieved from Maratha and Pindari attack. This levied the extra tax on Rajas which they collect from the Peasants. Hence Peasants were facing double exploitation now.

Some Famous Peasant Movement of Rajasthan

  1. Bijoliya Movement (1897-1941) 
  • This movement began under the leadership of Sadhu Sitaram.
  • In 1916, leadership was taken by Vijaysingh Pathik.

2. Begun Peasant Movement (Chittodgadh, 1921)

  • It was started against Lag-Baag (Cesses) and Begar (Forced Labour) system.
  • Headed by Ramnarayan Chaudhary. Later by Vijaysingh Pathik.

3. Alwar Peasant Movement

  • Two peasant movements took place in Alwar.
  • The movement against Pig farming (1921): This movement was started against the tight law on killing pigs which were damaging peasant’s crops.

4. Neemuchana Peasant Movement (1923-24)

  • It was considered more dreadful than the Jallianwala Bagh massacre by Gandhiji. It was started to oppose the increased tax by the king. Almost 800 farmers gathered for a meeting in which Britishers started the open fire on Peasants in which hundreds were killed.

5. Shekhawati Peasant Movement (1925)

  • Ended in 1946 through the medium of Hiralal Shashtri.

6. Bundi Peasant Movement (1926)

  • It is also called Barad peasant movement.
  • Headed and started by Nainuram Sharma.

7. Mev Peasant Movement (1931)

  • It took place in the region of Alwar and Bharatpur which is also called Mewat region.
  • Headed by Mohammad Ali.

Some famous Tribal movements of Rajasthan

  • Govindgiri Movement (1883)
  • Started in Baswada and Dungarpur region of Bhil tribe.
  • In 1883, Samp Sabha was established for creating political awareness among the Bhil tribe.
  • On 7th December, they gathered at Hills of Maangarh and police open fire on them in which 1500 tribal was killed.
  • Every year a fair is organized on the day of Ashwin Shukla Purnima.
  1. Eki Movement (1921-23):
  • Headed by Motilal Tejawat.
  • Reasons for the movement were interference of Britishers in their customs, extra taxes on salt, tobacco, etc.

2. Meena Movement (1930):

  • The main reason was the Criminal tribal act of (1924) and Jarayam Pesha Kanun (1930) by British govt. in which Meena tribe was declared as the criminal tribe.
  • In 1952, Jarayam Pesha Kanun was abolished.

Terms Related to Land Revenue System in Rajasthan

  • The land under the direct management of the state was called Khalsa.
  • The land under the feudal or granted land was called Jagir.
  1. Land rights in Khalsa system
  • Biswadar:  This was hereditary and enjoyed undistributed possession on land as they continue to pay tax.
  • Ryotwari System:  Under this system, every registered holder is considered as the proprietor of the land and pays directly to the govt.
  • Ijara System:  Under this system right of collecting revenue from a particular Pargana was given to the highest bidder of the auction.

2. Land rights in Jagir system:

  • Jagir:  It is land granted to a feudal in which the state had no right to intervene.
  • Inam or Tankha:  It is a revenue-free grant to a person given as a salary or for its good works.
  • There were many cesses also levied on farmers. They were production, cattle breeding, irrigation, nature, social cesses, etc.

Famous Freedom Fighter of Rajasthan

  1. Motilal Tejawat:
  • Started Eki movement
  • He is called Messiah of Tribals.

2. Swami Kumaranand:

  • Gave shelter to Batukeshwar Dutt after Kankori conspiracy.
  • Contributed by uniting farmers.

3. Balwant Singh Mehta:

  • Founder of Vanvasi hostel.

4. Laduram Joshi:

  • Participated in Salt movement and August revolution.

5. Devishankar Tiwari:

  • Contributed to the establishment of Rajasthan University, Sawai Raja Mansingh medical college and Maharani College.

6. Vijay Singh Pathik:

  • Real name was Bhoop Singh Gurjar.
  • Leaded Bijoliya Peasant Movement.
  • Rajasthan Sandesh and Nav Sandesh were started by him.
  • He wrote a novel Ajay Meru.
  • Some other freedom fighters were Jugalkishor Chaturvedi, Balmukund Bissa, Mohanlal Sukhadiya, Haridev Joshi, Arjunlal Sethi, Ramnarayan Chaudhary, Damodar Ras Rathi, etc.

Facts After Independence

  • First Governor of Rajasthan was Mr Gurumukh Nihal Singh.
  • First assembly President of Rajasthan was Mr Narrottamlal Joshi.
  • First CM of Rajasthan was Hiralal Shashtri.
  • First Chief Justice of Rajasthan High Court was Mr Kamal Kant Verma.
  • First Lady CM of Rajasthan is Smt. Vasundhara Raje.
  • First lady Minister was Smt. Kamla Beniwal.
  • First Lady Governor was Smt. Pratibha Patil.

.

आधुनिक राजस्थान का इतिहास (1707-1964)
(Modern History of Rajasthan)

  • 1707 से 1947 के बीच राजस्थान में कईं छोटे रियासती राज्‍य थे।
  • कुछ महत्वपूर्ण राज्यों में भरतपुर के जाट शासक, जयपुर के कच्छवाहा शासक, अलवर के कछवाहा शासक, शेखावती शासक, मेवाड़, कोटा, बूंदी आदि शामिल थे।
  • भरतपुर के चूडामन ने थून का किला बनाया।
  • 1725 में, चूडामन के भाई बदन सिंह ने डीग, कुम्हर और वैर किले के जल महल का निर्माण किया।
  • महाराजा जवाहर सिंह ने लाहौर किले का निर्माण करवाया।
  • मत्स्य संघ अलवर, भरतपुर, धौलपुर और करौली के एकीकरण के साथ गठित होने वाला पहला राज्य था। बाद में वे भारतीय संघ में शामिल हुए।
  • मिर्जा राजा सवाई सिंह ने सवाई, सरमंदी राजा-ए-हिंद, राज राजेश्वर और श्री राजाधिराज का खिताब धारण किया। इन्होंने दिल्ली, मथुरा, उज्जैन, वाराणसी और जयपुर में जंतर-मंतर का निर्माण करवाया। 1727 में, इन्होंने जयपुर की नींव रखी जिसे विद्याधर भट्टाचार्य ने डिजाइन किया।

राजस्थान में 1857 का विद्रोह

  • 1857 के विद्रोह के दौरान जॉर्ज लॉरेंस गवर्नर जनरल (ए.जी.जी) के एजेंट थे।
  • नसीराबाद पहला स्थान था जहां 28 मई को विद्रोह शुरू हुआ।
  • कुशाल सिंह चंपावत ने इरिनपुरा में विद्रोह का नेतृत्व किया।
  • राजस्थान में नसीराबाद, देवली, एरिनपुर, कोटा, खेरवाड़ा और बीवारर में छह छावनियां थीं।
  • 21 अगस्त को, विद्रोह जोधपुर क्षेत्र तक पहुंच गया।
  • कोटा विद्रोह का नेतृत्‍व मेहरब खान और जदाया कायाशियां ने किया था। उन्होंने 15 अक्टूबर, 1857 को मेजर बार्टन, उनके दो पुत्रों और एक डॉक्टर को मार दिया था, जिसके लिए उन्हें 3 मार्च, 1858 को फांसी दी गई।

राजस्थान में विद्रोह की विफलता का कारण: एकता और संगठन का अभाव, शासकों का कोई समर्थन नहीं, कोई निश्चित नेतृत्व नहीं, गोला-बारूद को कोई समर्थन नहीं आदि।

  • महाराजा जसवंत सिंह I विद्रोह के दौरान भरतपुर के शासक थे।
  • महाराजा राम सिंह II, विद्रोह के दौरान जयपुर के शासक थे।
  • महाराजा थकत सिंह विद्रोह के दौरान जोधपुर के शासक थे।
  • महाराजा राम सिंह विद्रोह के दौरान कोटा के शासक थे।
  • महाराजा स्वरुप सिंह विद्रोह के दौरान उदयपुर के शासक थे।

इस विद्रोह के कुछ प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी निम्‍न थे:

  • कोटा से लाला जयदयाल
  • कोटा से मेहराब सिंह
  • जोधपुर से ठाकुर कुशाल सिंह
  • एक कवि के रूप में बुंदी दरबार से सुर्यमल मिसोन
  • मेवाड़ से रावत केसरी सिंह
  • मेवाड़ से रावत जोधसिंह
  • टोंक से तर्चन पटेल
  • किसान एवं आदिवासी आंदोलन

किसान और आदिवासी आंदोलन

राजस्थान में किसान आंदोलन का कारण : मराठा और पिंडारी हमले से राहत पाने के लिए राजाओं का अंग्रेजों के साथ संधियों पर हस्ताक्षर करना। इससे राजाओं पर अतिरिक्त कर लगाया जाता है जिसे वे किसानों से एकत्र करते हैं। इसलिए अब किसान दोहरे शोषण का सामना कर रहे थे।

कुछ प्रसिद्ध किसान आंदोलन निम्‍न थे 

  1. बिजोलिया आन्दोलन (1897-1941)
  • यह आंदोलन साधु सीताराम के नेतृत्व में शुरू हुआ।
  • 1916 में, विजयसिंह पाथिक ने नेतृत्व किया।

2. शुरुआती किसान आंदोलन (चित्तौड़गढ़, 1921)

  • इसे लैग-बाग (उपकर) और बेगर (जबरन श्रम) प्रणाली के खिलाफ शुरू किया गया था।
  • शुरूआत में इसका नेतृत्‍व रामनारायण चौधरी ने किया। लेकिन बाद में इसका नेतृत्‍व विजयसिंह पठिक द्वारा किया है।

3. अलवर किसान आंदोलन:

  • अलवर में दो किसान आंदोलन हुए।
  • सुअर पालन के खिलाफ आंदोलन (1921): यह आंदोलन सुअरों को मारने पर कड़े कानून के खिलाफ शुरू किया गया, जो किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाते थे।

4. नीमचाना किसान आंदोलन (1923-24) 

इसे गांधीजी द्वारा जलियांवाला बाग नरसंहार की तुलना में और अधिक भयानक माना जाता था। इसे राजा द्वारा करों में की गई वृद्धि का विरोध करने के लिए शुरू किया गया था। लगभग 800 किसान एक बैठक के लिए जमा हुए थे, जिसमें अंग्रेजों ने किसानों पर गोलियां चला दी जिसमें सैकड़ों किसान मारे गए।

5. शेखावती किसान आंदोलन (1925)

  • 1946 में हीरालाल शास्त्री के माध्यम से समाप्त हुआ।

6. बूंदी किसान आन्दोलन (1926)

  • इसे बारद किसान आंदोलन भी कहा जाता है।
  • इसका नेतृत्‍व और शुरूआत नैनुराम शर्मा ने की।

7. मेव किसान आंदोलन (1931)

  • यह अलवर और भरतपुर के क्षेत्र में हुआ जिसे मेवात क्षेत्र भी कहा जाता है।
  • इसका नेतृत्‍व मोहम्मद अली ने किया।

कुछ प्रसिद्ध आदिवासी आंदोलन निम्‍न हैं 

  • गोविन्दगिरी आन्दोलन (1883)
  • भील जनजाति के बांसवाडा और डुंगरपुर क्षेत्र में शुरू हुआ।
  • 1883 में, भील जनजाति के बीच राजनीतिक जागरूकता पैदा करने के लिए सम्प सभा स्थापित की गई।
  • 7 दिसंबर को, वे मानगढ़ की पहाड़ियों पर एकत्र हुए और पुलिस ने उन पर गोलियां चला दी, जिसमें 1500 आदिवासी मारे गए।
  • प्रत्‍येक वर्ष अश्विन शुक्ल पूर्णिमा के दिन एक मेला आयोजित किया जाता है।
  1. एकी आंदोलन (1921-23)
  • इसका नेतृत्‍व मोतीलाल तेजावत ने किया।
  • आंदोलन के मुख्‍य कारण में उनके रीति-रिवाजों में अंग्रेजों का हस्तक्षेप, नमक, तंबाकू आदि पर अतिरिक्त कर शामिल थे।

2. मीना आंदोलन (1930)

  • मुख्य कारण ब्रिटिश सरकार द्वारा लागू किए गए आपराधिक आदिवासी अधिनियम (1924) और जारायम पेशा कानून (1930) थे जिनमें मीना जनजाति को आपराधिक जनजाति घोषित किया गया था।
  • 1952 में, जारायम पेशा कनून को समाप्त कर दिया गया।

राजस्थान में भू-राजस्व प्रणाली से संबंधित निबंधन

  • राज्य के प्रत्यक्ष प्रबंधन के अधीन भूमि को खालसा कहा जाता था।
  • सामंती या अनुदत्त भूमि के तहत भूमि को जागीर कहा जाता था।
  1. खालसा प्रणाली में भूमि अधिकार
  • बिस्वदार : यह वंशानुगत था और उन्‍होंने भूमि पर अनधिकृत कब्जे का आनंद लिया क्योंकि वे टैक्स का भुगतान करना जारी रखते हैं।
  • रयतवारी प्रणाली: इस प्रणाली के तहत प्रत्‍येक पंजीकृत धारक को जमीन के मालिक के रूप में माना जाता है और वे सीधे सरकार को भुगतान करता है।
  • इजारा प्रणाली :  इस प्रणाली के तहत किसी विशेष परगना से राजस्व एकत्र करने का अधिकार नीलामी के सबसे अधिक बोलीदाता को दिया जाता था।

2. जगीर प्रणाली में जमीन के अधिकार

  • जागीर: यह एक सामंती को दी गई भूमि है जिसमें राज्य को हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं था।
  • ईनाम या तनख्वाह: यह एक व्यक्ति को वेतन के रूप में या उसके अच्छे कार्यों के लिए दिया गया राजस्व मुक्त अनुदान है।
  • किसानों पर कईं उपकर भी लगाए गए थे, जो उत्पादन, पशु प्रजनन, सिंचाई, प्रकृति, सामाजिक उपकर आदि थे।

राजस्थान के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी

  1. मोतीलाल तेजावत
  • एकी आंदोलन की शुरूआत की।
  • इन्हें आदिवासी जनजातियों का मसीहा भी कहा जाता है।

2. स्वामी कुमारानंद

  • कांकोरी षड़यंत्र के बाद बट्टुकेश्वर दत्त को आश्रय दिया।
  • किसानों को एकजुट करने में योगदान दिया।

3. बलवंत सिंह मेहता

  • वनवासी हॉस्टल के संस्थापक।

4. लाडूराम जोशी

  • नमक आंदोलन और अगस्त क्रांति में भाग लिया।

5. देवीशंकर तिवारी

  • राजस्थान विश्वविद्यालय, सवाई राजा मानसिंह मेडिकल कॉलेज और महारानी कॉलेज की स्थापना में योगदान।

6. विजय सिंह पाथिक

  • असली नाम भूप सिंह गुर्जर था।
  • बिजोलिया किसान आंदोलन का नेतृत्व किया।
  • राजस्थान संदेश और नव संदेश इनके द्वारा शुरू किए गए थे।
  • उन्होंने एक उपन्यास अजय मेरु लिखा था।
  • कुछ अन्य स्वतंत्रता सेनानियों में जुगलकिशोर चतुर्वेदी, बालमुकुंद बिस्‍सा, मोहनलाल सुखाडिया, हरदेव जोशी, अर्जुनलाल सेठी, रामनारायण चौधरी, दामोदर रास राठी आदि शामिल थे।

स्वतंत्रता के बाद के तथ्य

  • राजस्थान के पहले राज्यपाल श्री गुरुमुख निहाल सिंह थे।
  • राजस्थान के पहले विधानसभा अध्यक्ष श्री नरोत्तमलाल जोशी थे।
  • राजस्थान के पहले मुख्यमंत्री हीरालाल शास्त्री थे।F
  • राजस्थान उच्च न्यायालय के पहले मुख्य न्यायाधीश श्री कमल कांत वर्मा थे।
  • राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे हैं।
  • प्रथम महिला मंत्री श्रीमती कमला बेनीवाल थीं।
  • प्रथम महिला गवर्नर श्रीमती प्रतिभा पाटिल थीं।

.

You Can Follow on Youtube – Score Better

Read More Article of Current Affairs

.

One thought on “Modern History of Rajasthan (1707-1964)

  1. I was searching for the good topic to research and read, I got it this article on your blog, Thank you so much. To get all details

Leave a Reply

%d bloggers like this: